तेलंगाना सरकार ने यूक्रेन में फंसे नागरिकों के लिये हेल्पलाइन स्थापित की, हेल्पलाइन पर आई 75 कॉल्स

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 25, 2022   15:41
तेलंगाना सरकार ने यूक्रेन में फंसे नागरिकों के लिये हेल्पलाइन स्थापित की, हेल्पलाइन पर आई 75 कॉल्स

तेलंगाना सरकार ने यूक्रेन में फंसे नागरिकों के लिये हेल्पलाइन स्थापित की है।नयी दिल्ली में तेलंगाना भवन के रेजिडेंट कमिश्नर और अन्य अधिकारियों के साथ टेली-कॉन्फ्रेंस करने के बाद मुख्य सचिव ने कहा कि राज्य सरकार विदेश मंत्रालय के लगातार संपर्क में है।

हैदराबाद।तेलंगाना सरकार ने यूक्रेन में फंसे राज्य के प्रवासियों और छात्रों की मदद के लिए यहां राज्य सचिवालय और नयी दिल्ली स्थित तेलंगाना भवन में हेल्पलाइन स्थापित की है। केंद्रीय पर्यटन मंत्री जी किशन रेड्डी ने भी इस मुद्दे को उठाया है। राज्य के मुख्य सचिव सोमेश कुमार ने शुक्रवार को एक विज्ञप्ति में बताया कि हेल्पलाइन पर कल रात से 75 कॉल आई हैं। नयी दिल्ली में तेलंगाना भवन के रेजिडेंट कमिश्नर और अन्य अधिकारियों के साथ टेली-कॉन्फ्रेंस करने के बाद मुख्य सचिव ने कहा कि राज्य सरकार विदेश मंत्रालय के लगातार संपर्क में है।

इसे भी पढ़ें: गुजरात के करीब 2,500 छात्र यूक्रेन में फंसे, शिक्षा मंत्री जीतू वाघानी ने दी जानकारी

स बीच, केंद्रीय पर्यटन मंत्री किशन रेड्डी ने कहा कि उन्होंने भारतीय दूतावास और विदेश मंत्री एस. जयशंकर से यूक्रेन में फंसे दक्षिणी राज्यों के छात्रों की मदद के लिए बात की है। रेड्डी ने बृहस्पतिवार को ट्वीट किया, यूक्रेन में दक्षिण भारत और तेलुगु भाषी राज्यों के छात्रों के संबंध में, यूक्रेन स्थित भारतीय दूतावास, माननीय विदेश मंत्री और विदेश मंत्रालय से आज बात की। उन्होंने ट्वीट किया, विदेश मंत्रालय स्थिति की मिनट-दर-मिनट निगरानी कर रहा है और उसने संकट के इस समय में सभी को सभी आवश्यक सहायता का आश्वासन दिया है। उन्होंने कहा कि चूंकि यूक्रेन का हवाई क्षेत्र बंद है, इसलिये भारतीय नागरिकों को निकालने के लिए वैकल्पिक व्यवस्था की जा रही है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।