समाज को जोड़ने का काम करते हैं मंदिर, इसी भावना से हो निर्माण: भागवत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 29, 2019   07:58
समाज को जोड़ने का काम करते हैं मंदिर, इसी भावना से हो निर्माण: भागवत

आरएसएस के प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि धर्म का मतलब पूजा नहीं है बल्कि यह समाज को एकजुट करने और एक साथ लाने का माध्यम है।

नागपुर। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत ने बृहस्पतिवार को कहा कि पुराने समय में मंदिर सामाजिक जीवन और लोगों को एकजुट करने का केंद्र हुआ करते थे। उन्होंने कहा कि इस दौर में भी मंदिर को उसी भावना के साथ बनाया जाना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: अंक प्राप्त करने से अधिक जरूरी है उत्कृष्टता पैदा करना: मोहन भागवत

शहर में एक राम मंदिर के सौ साल पूरे होने के अवसर पर आयोजित एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि धर्म का मतलब पूजा नहीं है बल्कि यह समाज को एकजुट करने और एक साथ लाने का माध्यम है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।