बंगाल में कमल खिलने के बाद दीदी के लिए पार्टी को एकजुट रखना बड़ी चुनौती

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 25, 2019   17:30
  • Like
बंगाल में कमल खिलने के बाद दीदी के लिए पार्टी को एकजुट रखना बड़ी चुनौती

भाजपा ने राज्य की 42 लोकसभा सीटों में से 18 पर जीत दर्ज की और उसका वोट प्रतिशत 2014 के 17 प्रतिशत के मुकाबले इस बार 40.5 प्रतिशत तक बढ़ गया।

कोलकाता। लोकसभा चुनाव में प्रदेश में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस का प्रदर्शन घोर निराशाजनक रहा है जहां उसके सांसदों की संख्या साल 2104 के 34 के मुकाबले इस बार घटकर 22 रह गई है। पार्टी के इस खराब प्रदर्शन का अब विश्लेषण शुरू हो गया है। तृणमूल कांग्रेस को स्तब्ध करने वाले प्रदर्शन के पीछे मोदी लहर और गत वर्ष खून-खराबे के साथ हुए पंचायत चुनावों के बाद टीएमसी द्वारा अल्पसंख्यकों का कथित तौर पर तुष्टीकरण मतदाताओं के ध्रुवीकरण की वजह माना जा रहा है।  भगवा पार्टी का जानाधार अचानक बढ़ने से हैरान तृणमूल कांग्रेस खेमा बंट गया है। स्थानीय नेताओं ने शीर्ष पार्टी पदों पर काबिज लोगों की ‘‘दूरदर्शिता की कमी’’ और उनके ‘‘अहंकार भरे रवैये’’ को खराब चुनावी प्रदर्शन के पीछे की मुख्य वजह बताया। हालांकि टीएससी का वोट प्रतिशत इस बार बढ़ा है। उसे 2014 के 39 प्रतिशत के मुकाबले इस बार 43 प्रतिशत वोट मिले हैं लेकिन वह दक्षिण बंगाल के आदिवासी बहुल जंगलमहल और उत्तर में चाय बागान वाले क्षेत्रों में अपना गढ़ बचाए रखने में नाकाम रही।

भाजपा ने राज्य की 42 लोकसभा सीटों में से 18 पर जीत दर्ज की और उसका वोट प्रतिशत 2014 के 17 प्रतिशत के मुकाबले इस बार 40.5 प्रतिशत तक बढ़ गया। यहां तक कि जिन सीटों पर टीएमसी जीती वहां भी भाजपा दूसरे नंबर पर रही जबकि वाम दल के हिस्से तीसरा स्थान आया। बहरहाल, टीमएसी नेतृत्व ने इस पर चुप्पी साध रखी है क्योंकि कुछ लोगों को राज्य में उसकी सरकार की स्थिरता को लेकर चिंता हो रही है। लेकिन पार्टी के महासचिव पार्थ चटर्जी ने राज्य में भाजपा की बढ़त को ‘‘अस्थायी’’ बताया। पार्टी के एक नेता ने नाम ना बताने की शर्त पर कहा, ‘‘हम लहर को पहचानने में नाकाम रहे। हम वाकई नहीं जानते कि आगे क्या होगा। पार्टी को एकजुट रखना वास्तव में कठिन होगा।’’ टीएमसी ने जिन 22 सीटों पर जीत दर्ज की उनमें अंतिम चरण की मतगणना तक कांटे का मुकाबला देखा गया क्योंकि मिनटों में उम्मीदवारों की बढ़त बदल रही थी। टीएमसी सूत्रों के अनुसार, प्रारंभिक आकलन में पता चला कि ग्रामीण इलाकों में पार्टी के खिलाफ नाराजगी थी। इसके पीछे कई वजह थी जिनमें अहम पंचायत चुनावों के दौरान हुई हिंसा रही जिसके कारण कई लोग अपने वोट नहीं डाल पाए। अन्य वजहों में स्थानीय स्तर पर भ्रष्टाचार और ‘‘तुष्टीकरण’’ को लेकर आक्रोश के बीच ध्रुवीकरण हुआ। 

इसे भी पढ़ें: पॉलिटिक्स ऑफ परफॉर्मेंस ने खत्म की नामदारों की सियासत: श्रीकांत शर्मा

पार्टी के लोगों ने बताया कि दरअसल टीएमसी, भाजपा के राष्ट्रवाद और हिंदुत्व के एजेंडे का जवाब देने में नाकाम रही जिससे राज्य में ध्रुवीकरण हुआ जहां मुस्लिमों की 27 प्रतिशत आबादी है। विश्लेषकों के अनुसार, मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के कार से उतरने और ‘‘जय श्री राम’’ का नारा लगा रहे कुछ युवकों को धमकाने वाले वायरल वीडियो से ठीक संदेश नहीं गया और भाजपा ने चुनाव के ध्रुवीकरण के लिए इस घटना को भुनाया। उन्होंने बताया कि पार्टी रैंक में कलह भी हार की वजह बनी। टीएमसी के एक वर्ग के कैडर ने अपनी पार्टी के नेताओं को सबक सिखाने के लिए भाजपा के लिए मतदान किया। भाजपा की शानदार जीत से तृणमूल कांग्रेस की भौंहे तन गई है लेकिन भाजपा के चुनावी चिह्ल कमल को खिलाने में अहम भूमिका निभाने वाले मुकुल रॉय के अनुसार, यह जीत अनुमान के अनुरूप थी। पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव में दो साल का वक्त है जबकि नगर निगम चुनाव अगले साल हैं। ऐसे में उसके सामने सबसे बड़ी चुनौती पार्टी को एकजुट रखना है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


संसद में राष्ट्रपति के अभिभाषण का बहिष्कार करेगी आम आदमी पार्टी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 28, 2021   17:03
  • Like
संसद में राष्ट्रपति के अभिभाषण का बहिष्कार करेगी आम आदमी पार्टी

संसद का बजट सत्र शुरू होने से एक दिन पहले, आम आदमी पार्टी से राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने बृहस्पतिवार को कहा कि किसान आंदोलन के मुद्दे पर उनकी पार्टी दोनों सदनों की संयुक्त बैठक में राष्ट्रपति के अभिभाषण का बहिष्कार करेगी।

नयी दिल्ली। संसद का बजट सत्र शुरू होने से एक दिन पहले, आम आदमी पार्टी से राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने बृहस्पतिवार को कहा कि किसान आंदोलन के मुद्दे पर उनकी पार्टी दोनों सदनों की संयुक्त बैठक में राष्ट्रपति के अभिभाषण का बहिष्कार करेगी। आम आदमी पार्टी के अलावा 16 विपक्षी पार्टियों ने भी राष्ट्रपति के अभिभाषण का बहिष्कार करने का निर्णय लिया है।

इसे भी पढ़ें: किसानों के आंदोलन पर योगी सरकार का बड़ा एक्शन, सभी DM-SP को धरना खत्म कराने का दिया आदेश

कांग्रेस, राकांपा, नेशनल कांफ्रेंस, द्रमुक, तृणमूल कांग्रेस, शिवसेना, समाजवादी पार्टी, रालोद, माकपा, भाकपा, इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग, आरएसपी, पीडीपी, एमडीएमके, केरल कांग्रेस (एम) और एआईयूडीएफ ने शुक्रवार को होने वाले राष्ट्रपति के अभिभाषण का बहिष्कार करने के फैसला लिया है। सिंह ने कहा, “आम आदमी पार्टी, बजट सत्र से पहले राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा शुक्रवार को संसद में दिए जाने वाले अभिभाषण का बहिष्कार करेगी। किसान आंदोलन के मुद्दे पर यह किया जाएगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


किसानों के आंदोलन पर योगी सरकार का बड़ा एक्शन, सभी DM-SP को धरना खत्म कराने का दिया आदेश

  •  अभिनय आकाश
  •  जनवरी 28, 2021   17:00
  • Like
किसानों के आंदोलन पर योगी सरकार का बड़ा एक्शन, सभी DM-SP को धरना खत्म कराने का दिया आदेश

योगी सरकार ने सभी DM और SP को धरना खत्म उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से किसानों का धरना खत्म कराने के आदेश जारी किए गए हैं। सूत्रों के अनुसार उत्तर प्रदेश की योगी सरकार की ओर से सभी डीएम और एसपी को धरना खत्म कराने का आदेश जारी किया गया है। कराने का दिया आदेश

गणतंत्र दिवस के दिन किसानों की ट्रैक्टर रैली के नाम पर हुए अराजकता के खेल के बाद अब पुलिस प्रशासन भी एक्शन मोड में है। गाजीपुर बाॅर्डर पर भारी पुलिसबल की तैनाती कर दी गई है। पैरामिलिट्री फोर्स, पीएसी की दस कंपनियां भी तैनात हैं। वहीं सिंधु बाॅर्डर पर स्थानीय गांव वालों की ओर से भी किसानो के खिलाफ आवाज बुलंद होनी शुरू हो गई है। इन सब के बीच एक बड़ी खबर सामने आ रही है कि उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से किसानों का धरना खत्म कराने के आदेश जारी किए गए हैं। सूत्रों के अनुसार उत्तर प्रदेश की योगी सरकार की ओर से सभी डीएम और एसपी को धरना खत्म कराने का आदेश जारी किया गया है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


पश्चिम बंगाल के मंत्री के घर के बाहर बदमाशों ने फेंका बम, छह लोगों की गिरफ्तारी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 28, 2021   16:54
  • Like
पश्चिम बंगाल  के मंत्री के घर के बाहर बदमाशों ने फेंका बम, छह लोगों की गिरफ्तारी

पश्चिम बंगाल के एक मंत्री के कोलकाता स्थित आवास पर मोटर साइकिल सवार कुछ बदमाशों द्वारा देसी बम फेंके जाने का मामला सामने आया है, जिसके संबंध में छह लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल के एक मंत्री के कोलकाता स्थित आवास पर मोटर साइकिल सवार कुछ बदमाशों द्वारा देसी बम फेंके जाने का मामला सामने आया है, जिसके संबंध में छह लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि बुधवार रात कस्बा इलाके में स्थित सूचना एवं संस्कृति राज्य मंत्री इंद्रनील सेन के घर के निकट हुई इस घटना में कोई हताहत नहीं हुआ।

इसे भी पढ़ें: कृषि कानूनों को लेकर राहुल ने साधा केंद्र पर निशाना, कहा- अधिकतर किसान इसके बारे में नहीं जानते

पुलिस ने कहा कि घटना के समय सेन अपने घर पर नहीं थे। कोलकाता के एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि इस मामले में कथित संलिप्तता के लिये छह लोगों को हिरासत में लिया गया है और उनके पास से तीन दोपहिया वाहन तथा देसी बमों का जखीरा बरामद हुआ है। उन्होंने कहा, हमने इलाके की सीसीटीवी फुटेज खंगालने के बाद इन लोगों की पहचान की है। हम उनसे पूछताछ कर रहे हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept