शिमला शहर का आम-जनमानस भारी-भरकम पानी के बिलों से परेशान--महेश्वर चौहान

शिमला शहर का आम-जनमानस भारी-भरकम पानी के बिलों से परेशान--महेश्वर चौहान

अभी तक सरकार प्रदेश की राजधानी में लोगों की चीर-परिचित मांग वन टाइम सैटलमैंट पोलिसी के तहत आने वाले हजारों लोगों को राहत देने में विफल रही है। शिमला शहर का आम-जनमानस भारी-भरकम पानी के बिलों से परेशान हो चुका है परंतु सरकार और नगर निगम, शिमला, जल प्रबंधन निगम की मनमानी और लूट के आगे बेबस दिख रही है और मौन धारण किए हुए हैं।

शिमला  । हिमाचल प्रदेश कांग्रेस के महासचिव महेश्वर चौहान ने कहा  कि सरकार की उदासीनता और निकम्मेपन से प्रदेश की राजधानी शिमला में साढ़े चार वर्षों में स्मार्ट सिटी के तहत शुरू हुए कार्य  कछुआ चाल से चल रहे हैं और इनमें धांधलियों की खबरें अब आम बात हो गई है। अभी तक सरकार प्रदेश की राजधानी में  लोगों की चीर-परिचित मांग वन टाइम सैटलमैंट पोलिसी के तहत आने वाले हजारों लोगों को राहत देने में विफल रही है। शिमला शहर का आम-जनमानस भारी-भरकम पानी के बिलों से परेशान हो चुका है परंतु सरकार और नगर निगम, शिमला, जल प्रबंधन निगम की मनमानी और लूट के आगे बेबस दिख रही है और मौन धारण किए हुए हैं।

चौहान ने कहा  कि इसी तरह शिमला शहर में ट्रैफिक/ पार्किंग, आवारा कुत्तों व बंदरों के आतंक जैसी बहुत सी समस्याओं से लोगों को हर रोज रूबरू होना पड़ रहा है। लेकिन सरकार और नगर निगम अपने पूरे कार्यकाल में इन समस्याओं से निजात दिलाने के लिए कोई ठोस नीति नहीं बना पाए और अब जब नगर निगम चुनाव दहलीज़ पर हैं तो सरकार सिर्फ झूठी घोषणाएं करके ही लोगों को गुमराह करना चाहती है। परंतु प्रदेश की जनता अब सरकार की कारगुजारियों से भली-भांति वाकिफ है और अब इनकी झूठी लोक- लुभावनी घोषणाओं और चुनावी वायदों में आने वाली नहीं है। हिमाचल प्रदेश में हाल ही में हुए उप चुनावों की भांती नगर-निगम, शिमला में भी भाजपा का सुपड़ा साफ करेगी।

इसे भी पढ़ें: हिमाचल में भाजपा का मुकाबला कांग्रेस ही करेगी तीसरे मोरचे की कोई संभावना नहीं , मुकेश अग्निहोत्री

कांग्रेस के महासचिव महेश्वर चौहान ने कहा  कि हिमाचल प्रदेश में आज समाज का हर वर्ग निराश और सरकार द्वारा प्रताड़ित है। पिछले साढ़े चार वर्षों से सरकार की कारगुजारियों से आम-जनमानस हताश है। प्रदेश की मौजूदा भाजपा सरकार अपने कार्यकाल में हिमाचल प्रदेश के विकास को गति देने में हर मोर्चे पर विफल  रही है। हिमाचल सरकार धरने और प्रदर्शनों की सरकार बनकर रह गई है। आज प्रदेश का हर वर्ग आंदोलित व आक्रोशित है। उन्होंने कहा कि मौजूदा सरकार को इतिहास में जब भी याद किया जाएगा तो मौज-मस्ती, फिजूलखर्ची और कर्ज़ लेने वाली सरकार के रूप में याद किया जाएगा। आज प्रदेश का शिक्षित युवा बेरोजगारी से कहरा रहा है और सरकार अपने मंत्रियों और अफसरों को लग्जरीज गाड़ियां और तमाम सुख-सुविधाएं जुटाने में व्यस्त है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।