भारत बंद का प्रभाव सिर्फ पंजाब और हरियाणा तक सीमित, देशभर में शून्य रहा असर

Bharat Bandh
संयुक्त किसान मोर्चा ने दिल्ली के सिंघू, टीकरी और गाजीपुर बॉर्डर पर जारी किसान आंदोलन के चार महीने पूरे होने पर आज सुब्ह छह बजे से शाम छह बजे तक बंद का आह्वान किया था।
नयी दिल्ली। भारतीय रेल ने शुक्रवार को कहा कि केन्द्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसान संगठनों द्वारा आहूत ‘भारत बंद’ का पंजाब और हरियाणा में कुछ जगहों को छोड़कर देशभर में ट्रेन सेवा पर ‘लगभग शून्य असर’ रहा है। उत्तर रेलवे के प्रवक्ता ने बताया कि सुबह प्रदर्शनकारी दोनों राज्यों में 44 जगहों पर ट्रेन की पटरियों पर बैठ गए थे जिस कारण चार शताब्दी ट्रेनें रद्द करनी पड़ी, 35 अन्य सवारी गाड़ियों में देरी हुई और 40 मालगाड़ियों की आवाजाही में दिक्कत आयी। रेलवे के प्रवक्ता डीजे नारायण ने कहा, ‘‘पंजाब और हरियाणा में कुछ सीमित ट्रेनों को छोड़कर पूरे देश में बंद का प्रभाव लगभग शून्य रहा है।उन दोनों राज्यों के अलावा कुछ पांच-छह ट्रेनें निर्धारित समय से देरी से चलीं। देश भर में ट्रेनों पर प्रभाव 0.5 प्रतिशत से भी कम रहा। ट्रेनें बिना किसी दिक्कत के चल रही हैं।’’ जिन 44 जगहों पर ट्रेनों की आवाजाही प्रभावित हुई है वे दिल्ली, अंबाला और फिरोजपुर रेलवे डिविजन में आते हैं। उत्तर रेलवे के प्रवक्ता ने बताया कि अब स्थिति सामान्य हो गयी है। संयुक्त किसान मोर्चा ने दिल्ली के सिंघू, टीकरी और गाजीपुर बॉर्डर पर जारी किसान आंदोलन के चार महीने पूरे होने पर आज सुब्ह छह बजे से शाम छह बजे तक बंद का आह्वान किया था।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़