कश्मीर घाटी के आंतक की गिरफ्त में रहने को देखने के लिए ‘द कश्मीर फाइल्स’ देखना चाहिए: अमित शाह

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 26, 2022   22:04
कश्मीर घाटी के आंतक की गिरफ्त में रहने को देखने के लिए ‘द कश्मीर फाइल्स’ देखना चाहिए: अमित शाह

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शनिवार को कहा कि लोगों को यह जानने के लिए ‘द कश्मीर फाइल्स’ देखना चाहिए कि कांग्रेस के शासन के दौरान कश्मीर घाटी किस कदर उत्पीड़न और आतंक की गिरफ्त में था।

अहमदाबाद। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शनिवार को कहा कि लोगों को यह जानने के लिए ‘द कश्मीर फाइल्स’ देखना चाहिए कि कांग्रेस के शासन के दौरान कश्मीर घाटी किस कदर उत्पीड़न और आतंक की गिरफ्त में था। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता शाह ने यहां अहमदाबाद नगर निगम द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में यह कहा। उन्होंने कहा, ‘‘जिन्होंने इसे नहीं देखा है, उन्हें अवश्य यह फिल्म देखनी चाहिए, ताकि वे यह जान सकें कि कांग्रेस के शासन के दौरान कश्मीर किस कदर उत्पीड़न और आतंक की गिरफ्त में था। ’’

इसे भी पढ़ें: मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने एचएयू में किया अनेक परियोजनाओं का उद्घाटन

उन्होंने कहा, ‘‘जब आपने नरेंद्र भाई (नरेंद्र मोदी) को दूसरी बार प्रधानमंत्री बनाया तब उन्होंने पांच अगस्त 2019 को अनुच्छेद 370 हटा दिया। ’’ शाह ने कहा कि विवेक अग्निहोत्री द्वारा निर्देशित फिल्म ‘द कश्मीर फाइल्स’ कश्मीरी पंडितों के उनके मूल राज्य से जबरन पलायन पर आधारित है, जो 1990 के दशक की शुरूआत में पाकिस्तान समर्थित आतंकवादियों द्वारा समुदाय को निशाना बनाये जाने के बाद शुरू हुआ था।

इसे भी पढ़ें: चीनी विदेश मंत्री वांग ने नेपाल के शीर्ष नेतृत्व से मुलाकात की, दोनों पक्षों के बीच हुए नौ करार

उन्होंने कहा कि हालिया विधानसभा चुनावों में चार राज्यों में भाजपा की भारी जीत भारत को सुरक्षित, समृद्ध और शक्तिशाली बनाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा अपनाई गई नीतियों का गवाह है। उन्होंने कहा कि इन चार राज्यों में कांग्रेस खत्म हो गई और वह कहीं नहीं नजर आ रही। केंद्रीय मंत्री ने अपने निर्वाचन क्षेत्र गांधीनगर में 367 करोड़ रुपये की परियोजनाओं की आधारशिला भी रखी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।