18 महीनों में पूरा हो जाएगा प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना का उद्देश्य , सरकार ने अब तक 1.15 करोड़ घरों को मंजूरी दी

18 महीनों में पूरा हो जाएगा प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना का उद्देश्य , सरकार ने अब तक 1.15 करोड़ घरों को मंजूरी दी

हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना के तहत जून 2015 में सभी राज्यों से मांग का आकलन देने को कहा गया था। इसी आधार पर एक करोड़ घर बनाए जाने थे इसके साथ ही प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना का उद्देश्य पूरा कर लिया गया होता।

प्रधानमंत्री मोदी का सपना है कि सबके पास पक्का मकान हो और  प्रधानमंत्री के इसी ख्वाब को पूरा करने के लिए जून 2015 में प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना की परिकल्पना की गई थी। अब आवास एवं शहरी मामलों के मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने दावा किया है कि प्रधानमंत्री का यह ख्वाब अगले 18 महीनों में पूरा कर दिया जाएगा।

सोमवार को राज्यसभा में हरदीप सिंह पुरी ने कहा प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना का उद्देश्य अगले 18 महीनों में पूरा कर लिया जाएगा। सदस्यों के एक पूरक सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि रा सरकार ने राज्यों की तरफ से दी गई आकलन मांगों के मांगों के आधार पर पीएमवाई-यू के तहत 1.15 करुण घरों को मंजूरी दे दी गई है। इन विभिन्न परियोजनाओं को अगले 18 महीनों में पूरा कर लिया जाएगा।

हरदीप सिंह पुरी ने एक विशिष्ट प्रश्न के उत्तर में कहा 31 मार्च 2022 के बाद क्रेडिट लिंक्ड सब्सिडी योजना को जारी रखने को लेकर समीक्षा किए जाने पर विचार नहीं किया जा रहा है। हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि यह प्रधानमंत्री का सपना है कि मार्च 2022 तक हर भारतीय के पास पक्की छत हो, रसोई हो और शौचालय हो। और उस घर का टाइटल गृह स्वामिनी के नाम पर हो। हरदीप सिंह पुरी ने कहा आवास की मांग एक करोड़ के शुरुआती अनुमान से आगे निकल गई है।

हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना के तहत जून 2015 में सभी राज्यों से मांग का आकलन देने को कहा गया था। इसी आधार पर एक करोड़ घर बनाए जाने थे इसके साथ ही प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना का उद्देश्य पूरा कर लिया गया होता। अब निजी क्षेत्र में भी किफायती आवास आ रहे हैं। हमें कुछ राज्य और मांग भेज रहे हैं। सरकार द्वारा एक परियोजना को मंजूरी दी गई है। ये 18 महीने के भीतर पूरी हो जाएगी।उन्होंने कहा इस योजना का प्रस्ताव जून 2015 में शुरू हुआ था। 2 साल तक कोरोना काल मे रुकावटों के बावजूद ये योजना जल्द ही पूरी कर ली जाएगी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।