भारत-पाकिस्तान के बीच तनाव खत्म करने का एकमात्र रास्ता वार्ता है: फारूक

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 25, 2019   18:34
भारत-पाकिस्तान के बीच तनाव खत्म करने का एकमात्र रास्ता वार्ता है: फारूक

उन्होंनें कहा कि यदि वह ऐसा नहीं करता है तो इस देश (पाकिस्तान) पर एक आतंकवादी देश का तमगा लग जायेगा जिससे उसके लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ेगा।

श्रीनगर। नेशनल कांफ्रेंस (नेकां) के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला ने सोमवार को कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव को खत्म करने का एकमात्र रास्ता बातचीत ही है और इस्लामाबाद को अपनी भूमि पर आतंकवाद खत्म करने के लिए मजबूत प्रयास करने चाहिए। अब्दुल्ला ने यहां नेकां मुख्यालय में पार्टी पदाधिकारियों, कार्यकर्ताओं और प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘युद्ध उन्माद पैदा किये जाने के प्रयास हैं। हमे युद्ध से बचाने के लिए आपको ईश्वर से प्रार्थना करनी चाहिए। चार युद्ध हुए हैं, लेकिन जानमाल के नुकसान के अलावा कुछ भी हासिल नहीं हुआ।’’

जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘केवल बातचीत के जरिये ही रास्ता निकल सकता है और पाकिस्तान को आतंकवाद खत्म करने का प्रयास करना चाहिए और उसे ऐसा गंभीरता के साथ करना चाहिए।’’ उन्होंनें कहा कि यदि वह ऐसा नहीं करता है तो इस देश (पाकिस्तान) पर एक आतंकवादी देश का तमगा लग जायेगा जिससे उसके लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ेगा।

इसे भी पढ़ें: जवानों में बहादुरी दिखाने के जुनून पर SOP का पालन ना करना पड़ रहा है भारी

अब्दुल्ला ने पाकिस्तानी सांसद राजेश कुमार वांकवानी की प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के साथ बैठक को लेकर खुशी जाहिर की। नेकां प्रमुख ने कहा, ‘‘मैं खुश हूं कि (पाकिस्तानी प्रधानमंत्री) इमरान खान ने भारत के प्रधानमंत्री और सुषमा स्वराज से मिलने के लिए अपने प्रतिनिधि को भेजा था। मुझे उम्मीद है कि युद्ध उन्माद जो बनाया जा रहा है, वह मंद पड़ जायेगा।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।