राजस्थान में भीषण गर्मी ने बढ़ाई पानी की किल्लत, जल मंत्री के आवास के बाहर परेशान लोगों का प्रदर्शन

राजस्थान में भीषण गर्मी ने बढ़ाई पानी की किल्लत, जल मंत्री के आवास के बाहर परेशान लोगों का प्रदर्शन
ANI pictures

जल मंत्री का विरोध करते हुए लोगों ने कहा कि यह तो बिसलेरी की पानी पीते हैं, लेकिन हम कहां जाएं, हम किससे पीने के लिए पानी मांगे? दरअसल, पानी की कमी से राजस्थान की राजधानी जयपुर सहित कई जिले जूझ रहे हैं, जिसकी वजह से आम लोगों का जीवन नरक बन गया है।

राजस्थान भीषण गर्मी की चपेट में है। गर्मी की वजह से लोगों को पानी की किल्लत का भी सामना करना पड़ रहा है। यही कारण है कि अब उनका धैर्य जवाब दे रहा है। इन सबके बीच खबर यह है कि राजस्थान में पानी की किल्लत का सामना कर रही कुछ महिलाओं ने जल मंत्री महेश जोशी का खूब विरोध किया है। कुछ लोग तो महेश जोशी के बंगले तक भी पहुंच गए और जमकर नारेबाजी करने लगे। जनता की ओर से आरोप लगाया गया कि नेता तभी शक्ल दिखाते हैं, जब उन्हें वोट लेना होता है। लोगों की ओर से अधिकारियों का भी विरोध किया जा रहा है। फिलहाल आनन-फानन में सरकार की ओर से पानी सप्लाई बढ़ाने के निर्देश तो दे दिए गए हैं। लेकिन ऐसा कितने दिनों तक चलेगा यह भी देखने वाली बात है।

इसे भी पढ़ें: लाउडस्पीकर के मुद्दे पर केंद्र से बात करेगी उद्धव सरकार, पाटिल बोले- कानून-व्यवस्था का उल्लंघन करने वालों पर होगी कार्रवाई

जल मंत्री का विरोध करते हुए लोगों ने कहा कि यह तो बिसलेरी की पानी पीते हैं, लेकिन हम कहां जाएं, हम किससे पीने के लिए पानी मांगे? दरअसल, पानी की कमी से राजस्थान की राजधानी जयपुर सहित कई जिले जूझ रहे हैं, जिसकी वजह से आम लोगों का जीवन नरक बन गया है। अपनी चमक से दुनिया को आकर्षित करने वाली जयपुर में लोगों को लंबे समय तक बिना पानी के रहना पड़ रहा है। कोटा में भी भीषण गर्मी की वजह से पानी की किल्लत बढ़ गई है। राजस्थान के कई इलाकों में तापमान 45 डिग्री से ऊपर है जिसकी वजह से आम लोगों के लिए मुश्किलें और बढ़ती जा रही है। जयपुर में जब किसी मोहल्ले में पानी के टैंकर पहुंचती है तो लोगों की लंबी लाइन देखने को मिलती है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...