सावरकर को बदनाम करने की हो रही साजिश, संघ प्रमुख ने बताया अगला नंबर किसका आएगा

सावरकर को बदनाम करने की हो रही साजिश, संघ प्रमुख ने बताया अगला नंबर किसका आएगा

संघ प्रमुख ने कहा कि स्वतंत्रता के बाद से ही वीर सावरकर को बदनाम करने की मुहिम चली है। इसके बाद स्वामी विवेकानंद, स्वामी दयानंद सरस्वती और योगी अरविंद को बदनाम करने का नंबर लगेगा, क्योंकि सावरकर इन तीनों के विचारों से प्रभावित थे।

वीर सावरकर पर पुस्तक के विमोचन कार्यक्रम के दौरान सरसंघचालक मोहन भागवत ने वीर सावरकर को बदमान करने की साजिश का उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि जो भारत का है, उसकी सुरक्षा, प्रतिष्ठा भारत के ही साथ जुड़ी है। विभाजन के बाद भारत से स्थलांतर करके पाकिस्तान में गए मुसलमानों की प्रतिष्ठा पाकिस्तान में भी नहीं है। जो भारत का है, वो भारत का ही है। मोहन भागवत ने कहा कि वीर सावरकर को लेकर आज के भारत में जानकारी का अभाव है, सावरकर को बदनाम करने की कोशिश की गई है। भारतीय भाषा की परंपरा के अर्थ में धर्म का अर्थ जोड़ने वाला है, उठाने वाला है, बिखरने ना देने वाला है। साधारण शब्दों में समझा जाए तो भारतीय धर्म मानवता है।

इसे भी पढ़ें: संघ प्रमुख मोहन भागवत तीन दिवसीय उत्तराखंड की यात्रा पर हल्द्वानी पहुंचे

संघ प्रमुख ने कहा कि स्वतंत्रता के बाद से ही वीर सावरकर को बदनाम करने की मुहिम चली है। इसके बाद स्वामी विवेकानंद, स्वामी दयानंद सरस्वती और योगी अरविंद को बदनाम करने का नंबर लगेगा, क्योंकि सावरकर इन तीनों के विचारों से प्रभावित थे। इसके अलावा उन्होंने सड़कों के नाम बदलने पर सहमति जताई हुए कहा कि बहुत राष्ट्रभक्त मुस्लिम हैं, जिनके नाम गूंजने चाहिए। हमारी पूजा विधि अलग-अलग है, लेकिन पूर्वज एक ही हैं। बहुत राष्ट्रभक्त है. बंटवारे में पाकिस्तान जाने वालों को वहां प्रतिष्ठा नहीं मिली। उन्होंने कहा कि आजादी के बाद सावरकर को बदनाम किया गया।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।