राहुल गांधी की चिंतन प्रक्रिया में नहीं है एकरूपता: तृणमूल कांग्रेस

Trinmool Congress
उल्लेखनीय है कि‘चिंतन शिविर’ में राहुल गांधी ने कहा था कि राष्ट्रीय स्तर पर केवल कांग्रेस ही भाजपा से लड़ सकती है और क्षेत्रीय दल यह लड़ाई नहीं लड़ सकते क्योंकि उनकी कोई विचारधारा नहीं है।

कोलकाता|  तृणमूल कांग्रेस ने शनिवार को क्षेत्रीय दलों पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी के नवीनतम नरम बयान को यह कहते हुए ज्यादा तवज्जो नहीं दी कि उनमें ‘एकरूपता’ नहीं है और उन्हें ‘अपनी चिंतन प्रक्रिया में कुछ स्पष्टता’ लानी चाहिए।

तृणमूल प्रवक्ता सुखेंदु शेखर ने पीटीआई-से कहा, ‘‘राहुल गांधी (की बातों) में एकरूपता नहीं है और उन्हें अपनी चिंतन प्रक्रिया में कुछ स्पष्टता लानी चाहिए। कुछ दिनों पहले उन्होंने कहा था कि क्षेत्रीय दलों में विचारधारा नहीं है और केवल कांग्रेस ही भाजपा का मुकाबला कर सकती है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘आज वह जो कह रहे हैं, वह बिल्कुल अलग है। इसलिए, कांगेस और राहुल गांधी को स्पष्ट करना चाहिए कि कौन-सा बयान सही है और किस पर भरोसा किया जाना चाहिए।’’

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने उदयपुर में पार्टी के चिंतन शिविर के दौरान की गयी टिप्पणी से पीछे हटते हुए कहा है कि उनकी पार्टी क्षेत्रीय दलों का सम्मान करती है और वह सर्वेसर्वा नहीं बनना चाहती। साथ ही, उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के खिलाफ लड़ाई एक ‘‘सामूहिक प्रयास’’ है।

उल्लेखनीय है कि‘चिंतन शिविर’ में राहुल गांधी ने कहा था कि राष्ट्रीय स्तर पर केवल कांग्रेस ही भाजपा से लड़ सकती है और क्षेत्रीय दल यह लड़ाई नहीं लड़ सकते क्योंकि उनकी कोई विचारधारा नहीं है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़