महाभारत काल में भी इंटरनेट, युवाओं को पान की दुकान खोलने की नसीहत, बिप्लब देव के वो 5 बयान जिसने कई बार कराई पार्टी की फजीहत

महाभारत काल में भी इंटरनेट, युवाओं को पान की दुकान खोलने की नसीहत, बिप्लब देव के वो 5 बयान जिसने कई बार कराई पार्टी की  फजीहत
ANI

चार साल के कार्यकाल और देर शाम अमित शाह ने मुलाकात के बाद बिपल्ब देव ने इस्तीफा दे दिया। अपने मुख्यमंत्री रहते हुए बिप्लब देव ने अपने काम से ज्यादा विवादित बयानों की वजह से सुर्खियों में रहे। उनके बयानों से पार्टी की काफी फजीहत भी हुई।

2023 के शुरुआती साल में एक राज्य चुनाव में जाने वाला है। लेकिन उससे ठीक एक बरस पहले ही एक बड़ा इस्तीफा बीजेपी शासित राज्य के मुख्यमंत्री का हो गया। आज बात उस शख्स की करेंगे जो सबसे ज्यादा चर्चा में है। त्रिपुरा से माणिक सरकार को उखाड़ पाना कोई आसान काम नहीं था। लेकिन बीजेपी ने ये साल 2018 में कर दिखाया। पीएम मोदी राजनीति के बड़े जौहरी हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने त्रिपुरा के लोगों को एक ज्योतिषीय सलाह दी थी। अब आपको माणिक नहीं चाहिए, माणिक से मुक्ति ले लो। अब आपको जरूरत है हीरे की। लोगों ने प्रधानमंत्री की वो सलाह मान ली और माणिक को उतार फेंका। 25 सालों से सत्ता पर काबिज लेफ्ट का उस चुनाव में डब्बा गुल हो गया। लेकिन चार साल के कार्यकाल और देर शाम अमित शाह ने मुलाकात के बाद बिपल्ब देव ने इस्तीफा दे दिया।

अपने मुख्यमंत्री रहते हुए बिप्लब देव ने अपने काम से ज्यादा विवादित बयानों की वजह से सुर्खियों में रहे। उनके बयानों से पार्टी की काफी फजीहत भी हुई। ऐसे में आपको बिप्लब देव के उन बयानों से रूबरू करवाते हैं, जो विवाद की वजह बनें।

इसे भी पढ़ें: बिप्लब देब के इस्तीफे के बाद त्रिपुरा को मिलेगा नया CM, विधायक दल की बैठक में होगा नए नेता का चयन

महाभारत काल में भी इंटरनेट और सैटेलाइट

त्रिपुरा के पूर्व सीएम बिप्लब देव ने अगरतला में साल 2018 को 18 अप्रैल के एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा था कि महाभारत काल में भी तकनीकी सुविधाएं उपलब्ध थी और उस समय भी इंटरनेट और सैटेलाइट की व्यवस्था थी। इसके साथ ही उन्होंने कहा था कि हस्तिनापुर में बैठे धृतराष्ट्र को संजय ने युद्ध के मैदान में होने वाले घटनाक्रम की जानकारी दी थी। इतनी दूर से कोई आंख से कैसे देख सकता है। इसका मतलब उस समय भी इंटरनेट और सैटेलाइट था। 

डायना हेडन इंडियन ब्यूटी नहीं

 बिप्लब देब ने मिस वर्ल्ड डायना हेडन को लेकर भी विवादित बयान दिया था। उन्होंने 27 अप्रैल को कहा था कि डायना हेडन इंडियन ब्यूटी नहीं हैं। डायना हेडन की जीत फिक्स थी। उन्होंने कहा कि डायना हेडन भारतीय महिलाओं की सुंदरता की नुमाइंदगी नहीं करती। ऐश्वर्या राय करती हैं। बिप्लब देब के इस बयान की आलोचना होने के बाद उन्होंने इस पर खेद भी जताया था।  

युवाओं को पान का दुकान खोलने की नसीहत

बिप्लब देव ने युवाओं को नौकरियों के बदले पान की दुकान खोलने की नसीहत दे दी थी। 29 अप्रैल को उन्होंने कहा था कि युवा कई सालों तक राजनीतिक दलों के पीछे सरकारी नौकरी के लिए पड़े रहते हैं। वो अपने जीवन का महत्वपूर्ण वक्त इधर उधर भागकर सरकारी नौकरी के फेर में बर्बाद करते हैं। वही युवा सरकारी नौकरी तलाशने के लिए राजनीतिक पार्टियों के पीछे भागने की बजाय पान की दुकान लगा ले तो उसके बैंक खाते में अब तक 5 लाख रूपए जमा हो गए होते। इसके साथ ही बिप्लब यहीं नहीं रूके उन्होंने कहा था कि सरकारी नौकरी के लिए भागने से अच्छा है कि प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत बैंक से लोन लेकर पशु संसाधन क्षेत्र के विभिन्न परियोजनाओं को शुरू करके स्वयं रोजगार का सृजन करें।  

मैकेनिकल नहीं सिविल इंजीनियर्स दें सिविल सर्विस परीक्षा 

बिप्लब देव ने मैकेनिकल इंजीनियरिंग की पृष्ठभूमि वाले छात्रों का चयन सिविल सेवाओं में नहीं होने की बात कही थी। समाज के निर्माण के लिए इसका ज्ञान सिविल इंजीनि.रों के पास है इसलिए उन्हें ही मौका मिलना चाहिए क्योंकि जो लोग प्रशासन में हैं उन्हें समाज का निर्माण करना है।  

श्रीलंका और नेपाल में बीजेपी की सरकार बनाने की योजना

अगरतला के एक कार्यक्रम में बिप्लब देव ने दावा किया कि गृह मंत्री अमित शाह ने राष्ट्रीय अध्यक्ष रहते हुए एक मीटिंग में कहा था कि बीजेपी नेपाल और श्रीलंका में भी विस्तार कर अपनी सत्ता कायम करना चाहती है। बिपल्ब देव ने साल 2018 में बातचीत का हवाला देते हुए कहा कि पार्ची की बातचीत में अजय जम्वाल ने कहा कि अध्यक्ष जी स्टेट तो हमारे पास अच्छा हो गया। तो उन्होंने कहा कि कहां अच्छा हो गया, अभी तो श्रीलंका बाकी है नेपाल बाकी है।

 

 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...