जम्मू-कश्मीर में कोविड-19 से जान गंवाने वालों के परिजनों को मिले चार लाख रुपये का मुआवजा : कांग्रेस

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 27, 2021   20:18
जम्मू-कश्मीर में कोविड-19 से जान गंवाने वालों के परिजनों को मिले चार लाख रुपये का मुआवजा : कांग्रेस
प्रतिरूप फोटो

कांग्रेस की जम्मू-कश्मीर इकाई के अध्यक्ष जी ए मीर ने कश्मीर में कोरोना वायरस संक्रमण के नए मामलों में हाल में हुई वृद्धि पर चिंता व्यक्त की और महामारी की संभावित तीसरी लहर से निपटने के लिए पर्याप्त उपायों की मांग की।

जम्मू|  कांग्रेस की जम्मू-कश्मीर इकाई के अध्यक्ष जी ए मीर ने घाटी में कोविड-19 से जान गंवाने वालों के परिवारों को चार लाख रुपये की अनुग्रह राशि देने की मांग करते हुए शनिवार को आरोप लगाया कि महामारी के कुप्रबंधनके कारण देश में लोगों की जिंदगी बुरी तरह प्रभावित हुई है।

मीर ने कश्मीर में कोरोना वायरस संक्रमण के नए मामलों में हाल में हुई वृद्धि पर चिंता व्यक्त की और महामारी की संभावित तीसरी लहर से निपटने के लिए पर्याप्त उपायों की मांग की।

इसे भी पढ़ें: सरकार को सर्दी के बाद जम्मू-कश्मीर में चुनाव कराने चाहिए: आजाद

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने यहां संवाददाताओं को संबोधित करते हुए कहा, “हम (उपराज्यपाल मनोज सिन्हा के समक्ष)केन्द्र शासित प्रदेश में कोविड-19 से जान गंवाने वालों के परिजनों को चार लाख रुपये का मुआवजा देने का मुद्दा एक ज्ञापन के माध्यम से उठा रहे हैं और इस संबंध में आज ही उन्हें पत्र लिख रहे हैं।”

मीर ने कहा कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने सरकार को सुझाव दिया था कि कोविड​​-19 से मरने वालों के परिवारों को चार लाख रुपये का मुआवजा दिया जाए। उन्होंने कहा, जनता की रक्षा करना सरकार का कर्तव्य और जिम्मेदारी है। पहली लहर के दौरान इस सरकार की प्रतिक्रिया मंद थी और देश में दूसरी लहर के दौरान दयनीय रही, जिसके परिणामस्वरूप काफी अधिक लोगों की जान गई।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस या उसके सहयोगियों द्वारा शासित राज्यों ने प्रस्तावित चार लाख रुपये के मुआवजे में से प्रति व्यक्ति एक लाख रुपये का योगदान देने की इच्छा व्यक्त की है।

इसे भी पढ़ें: कश्मीर की स्थिति पर सीतारमण का दावा झूठ का पुलिंदा: नेशनल कॉन्फ्रेंस

मीर ने कहा, “भारतीय जनता पार्टी शासित राज्यों को इसका अनुसरण करना चाहिए और कोविड-19 से जान गंवाने वाले लोगों के परिवारों को मुआवजा देना चाहिए क्योंकि कई परिवारों ने महामारी के कारण अपने आजीविका के साधन अथवा रोजी-रोटी कमाने वाले सदस्यों को खो दिया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।