• मिजोरम में 75 मरीजों में कोविड-19 के तीन स्वरूप पाए गए

मिजोरम में कोरोना वायरस से संक्रमित 75 मरीजों में, इस वायरस के कम से कम तीन अलग स्वरूप पाए गए हैं। इन मरीजों के नमूने सामान्य तौर पर ही चुने गए थे और इन्हें जीनोम अनुक्रमण के लिए भेजा गया था।

आइजोल। मिजोरम में कोरोना वायरस से संक्रमित 75 मरीजों में, इस वायरस के कम से कम तीन अलग स्वरूप पाए गए हैं। इन मरीजों के नमूने सामान्य तौर पर ही चुने गए थे और इन्हें जीनोम अनुक्रमण के लिए भेजा गया था। राज्य के नोडल अधिकारी और कोविड-19 पर आधिकारिक प्रवक्ता डॉ. पचुआउ ललमालसाव्मा ने बृहस्पतिवार को बताया कि करीब 100 नमूनों में से, भारत में पाए गए अत्यधिक संक्रामक डेल्टा स्वरूप (बी.1.617.2) के 73 मामले और एक-एक मामला ब्रिटेन के अल्फा (बी.1.1.7) और इटा (बी.1.525) का पाया गया है।

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र के बीड में कोविड-19 के 238 नये मरीज, संक्रमण के मामले लगातार तीसरे दिन बढ़े

उन्होंने बताया कि इन नमूनों को जून में पश्चिम बंगाल के कल्याणी में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ बायोमेडिकल जीनोमिक्स (एनआईबीएमजी) में जीनोम अनुक्रमण के लिए भेजा गया। उन्होंने कहा, ‘‘मिजोरम सरकार राज्य में अन्य स्वरूपों का पता लगाने के लिए व्यापक कोशिशें कर रही है। लोगों को काफी सावधान रहना होगा और दिशा निर्देशों का सख्ती से पालन करना होगा क्योंकि राज्य के अन्य हिस्सों में कोविड के अलग स्वरूप पहले ही मौजूद हैं।’’ अधिकारी ने बताया कि डेल्टा स्वरूप के 73 मामलों में से 56 मामले आइजोल में, नौ लुंगलेई में, पांच कोलासिब में और तीन सेरचिप में पाए गए। अल्फा और इटा स्वरूप के दोनों मामले आइजोल में पाए गए।

इसे भी पढ़ें: कोरोना वायरस संक्रमण के कारण एयर इंडिया के 56 कर्मचारियों की हुई मौत: सरकार

उन्होंने बताया कि मरीजों की स्थिति का अभी पता नहीं लगाया गया है। एक अध्ययन का हवाला देते हुए पचाऊ ने कहा कि इटा स्वरूप अधिक खतरनाक है क्योंकि इसमें 69 प्रतिशत मरीजों को आईसीयू में इलाज कराने की जरूरत पड़ी। उन्होंने बताया कि डेल्टा स्वरूप से संक्रमित मरीजों में मृत्यु दर 0.1 प्रतिशत, अल्फा स्वरूप में दो प्रतिशत और इटा स्वरूप में 2.7 प्रतिशत पायी गयी।