आर्टिकल 370 और 35ए को लेकर केंद्र पर बरसीं महबूबा, बोलीं- एक समय आएगा जब इन्हें बहाल किया जाएगा

आर्टिकल 370 और 35ए को लेकर केंद्र पर बरसीं महबूबा, बोलीं- एक समय आएगा जब इन्हें बहाल किया जाएगा

पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने कहा कि आर्टिकल 370 और 35A कानूनी तरीके से नहीं गया। जायज तरीके से नहीं गया बल्कि नाजायज तरीके से गया। डाकू जो चीज लूटकर ले जाता है वो उसकी नहीं होती, उसे वापस लाना होता है।

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने एक बार फिर आर्टिकल 370 को लेकर केंद्र की मोदी सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि हमें निराश नहीं होना चाहिए क्योंकि एक समय आएगा जब न केवल अनुच्छेद 370 और 35ए को बहाल किया जाएगा बल्कि केंद्र यह कहने के लिए मजबूर होगी कि उन्होंने गलत किया है। 

इसे भी पढ़ें: J&K के कुलगाम में हुए आतंकवादी हमले में पुलिसकर्मी शहीद, तलाशी अभियान जारी 

नाजायज तरीके से गया आर्टिकल 370

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने कहा कि आर्टिकल 370 और 35A कानूनी तरीके से नहीं गया। जायज तरीके से नहीं गया बल्कि नाजायज तरीके से गया। डाकू जो चीज लूटकर ले जाता है वो उसकी नहीं होती, उसे वापस लाना होता है। दुनिया में कोई चीज़ नामुमकिन नहीं है।

लोगों को नौकरी से निकाल रही सरकार

सरकार पर कश्मीरियों की नौकरियां छीनने का आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि सरकार नौकरी देने की बजाय लोगों को नौकरी से निकाल रही है। यहां बहुत ज़्यादा बेरोज़गारी है। सड़कों की हालत खराब है, रिश्वतखोरी ज़्यादा है, भ्रष्टाचार है। बिजली, पानी सहित हर चीज़ की दिक्कत है। पेंशन में हेराफेरी होती है। पहले 10 फीसदी भ्रष्टाचार था वो आज 50 फीसदी हो गया है। 

इसे भी पढ़ें: महबूबा मुफ्ती ने तालिबान का किया समर्थन, बोलीं- शरिया कानून के तहत चलाए सरकार 

आपको बता दें कि केंद्र की मोदी सरकार ने जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 के कुछ प्रावधानों को समाप्त कर इसे दो केंद्रशासित प्रदेशों में विभाजित कर दिया था। जो जम्मू-कश्मीर और लद्दाख केंद्रशासित प्रदेश के तौर पर जाने गए। हालांकि घाटी के नेता लगातार केंद्र सरकार से जम्मू-कश्मीर के प्रदेश का दर्जा बहाल करने की मांग करते रहते हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...