वोटर्स को लुभाने के लिए बांटे जा रहे हैं तिरुपति लड्डू, BJP ने की जांच की मांग

वोटर्स को लुभाने के लिए बांटे जा रहे हैं तिरुपति लड्डू, BJP ने की जांच की मांग

यह पहली बार है कि भगवान वेंकटेश्वर के प्रसाद को अब लोगों को अपने पक्ष में वोट करने के लिए रिझाया जा रहा है जोकि काफी गलत तरीका है। खबर के मुताबिक, पवित्र प्रसाद को बांटने के मामले सबसे ज्यादा चंद्र गिरी विधानसभा क्षेत्र के कई इलाकों से आए है।

आंध्र प्रदेश में पंचायत जोरो-शोरों से चल तो रहे है लेकिन इस चुनाव में कुछ अलग भी देखने को मिल रहा है। जी हां, पंचायत चुनाव में वोटर्स को लुभाने के लिए विश्व प्रसिद्ध तिरुपति लड्डू बांटे जा रहे हैं। टीओआई की एक खबर के मुताबिक, भगवान का प्रसाद और श्रद्धा होने के कारण लोग इन प्रसाद को लेने से इनकार भी नहीं कर पा रहे हैं। यह पहली बार है कि भगवान वेंकटेश्वर के प्रसाद को अब लोगों को अपने पक्ष में वोट करने के लिए रिझाया जा रहा है जोकि काफी गलत तरीका है। खबर के मुताबिक, पवित्र प्रसाद को बांटने के मामले सबसे ज्यादा चंद्र गिरी विधानसभा क्षेत्र के कई इलाकों से आए है। बता दें कि लड्डू 650 से लेकर 700 ग्राम तक के है जिनकी कीमत 200 रुपये होती है। दुनिया में प्रसिद्ध इस प्रसाद लड्डू की काफी डिमांड होती है। बता दें कि ऐसा कई बार होता है कि ज्यादा श्रद्धालु इस पवित्र प्रसाद लड्डू को खाए बिना खाली हाथ लौटना पड़ जाता है।

इसे भी पढ़ें: KCR का एक तीर से दो निशाना, पूर्व पीएम पीवी नरसिम्हा राव की बेटी को तेलंगाना विधान परिषद चुनाव में उतारा

टीओआई के मुताबिक, भारी मात्रा में लोगों को पवित्र प्रसाद बांटे जाने को लेकर टीटीडी ने चुप्पी साध ली है वहीं चुनाव प्राधिकरण इस मसले की जांच कर रहा है। टीटीडी के सूत्रों ने अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया कि केवल एक शख्स को 80000 छोटे लड्डू, 15000 कल्याणोत्सवम लड्डू और 8500 वडा प्रसादम और तिरुचेनूर लड्डू सौंपे गए है। इस मामले को लेकर अब भाजपा ने वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं पर आरोप लगाया है और कहा है कि वोटर्स को लुभाने के लिए कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं ने बड़ा संख्या में लोगों को पवित्र प्रसाद बांटे हैं। बीजेपी ने चुनाव आयोग से मामले की जांच करने की मांग की है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...