गर्मी के मौसम में कश्मीर की ठंडक का मजा लेने बड़ी संख्या में आ रहे हैं पर्यटक

गर्मी के मौसम में कश्मीर की ठंडक का मजा लेने बड़ी संख्या में आ रहे हैं पर्यटक
Prabhasakshi

सिर्फ कश्मीर घाटी में ही पर्यटकों की भीड़ दिख रही हो, ऐसा नहीं है। माता वैष्णो देवी के दर्शनों के लिए बड़ी संख्या में श्रद्धालु जम्मू आ रहे हैं तो इस बार अमरनाथ तीर्थयात्रियों के भी बड़ी संख्या में आने की संभावना है।

जम्मू-कश्मीर में इस साल पर्यटकों की संख्या ने पिछले सभी रिकॉर्ड तोड़ दिये हैं। देश का अधिकांश हिस्सा भीषण गर्मी के प्रकोप से जूझ रहा है, यही नहीं पहाड़ी इलाकों में भी चिलचिलाती धूप पड़ रही है ऐसे में लोग राहत पाने के लिए कश्मीर दौड़े चले जा रहे हैं। कश्मीर में बेहतर हुए हालात ने भी यहां पर्यटकों की आवक बढ़ाने में मदद की है। श्रीनगर हवाई अड्डे पर दिन-रात विमानों की आवाजाही दर्शा रही है कि पर्यटन उद्योग के लिये यह सीजन बहुत अच्छा जा रहा है। श्रीनगर हो या गुलमर्ग, होटलों में सारे कमरे फुल चल रहे हैं। शिकारा वाले व्यस्त हैं, टूरिस्ट गाइडों को काम मिला हुआ है, टैक्सी और ऑटो वालों के पास अब स्टैंड पर बैठने की भी फुर्सत नहीं है। स्थानीय लोग जहां पर्यटकों के आने से कमाई कर रहे हैं वहीं पर्यटक भी कश्मीर की वादियों में खोकर अपने जीवन के हसीन पलों का मजा उठा रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: मस्जिद में लाउडस्पीकर क्यों नहीं हो सकता, इफ्तार के वक्त काट रहे हैं बिजली, उमर अब्दुल्ला ने कहा- कुछ तो हमारे जज्बातों को कद्र करिए

सिर्फ कश्मीर घाटी में ही पर्यटकों की भीड़ हो ऐसा नहीं है। माता वैष्णो देवी के दर्शनों के लिए बड़ी संख्या में श्रद्धालु जम्मू आ रहे हैं तो इस बार अमरनाथ तीर्थयात्रियों के भी बड़ी संख्या में आने की संभावना है। अमरनाथ यात्रा के लिए पंजीकरण की शुरुआत के बाद दो सप्ताह से भी कम समय में देशभर के 20,000 से अधिक श्रद्धालुओं ने जम्मू एवं कश्मीर बैंक कांउटरों के जरिये यात्रा पंजीकरण कराया है। हम आपको बता दें कि आगामी 30 जून से 11 अगस्त के बीच अमरनाथ यात्रा आयोजित की जा रही है।

इसे भी पढ़ें: कश्मीर में लोक कल्याण तो बढ़ गया है पर लोकतंत्र की वापसी कब होगी?

बहरहाल, कश्मीर घाटी की बात करें तो यहां का मनोरम मौसम और वादियां हर किसी को आकर्षित कर रही हैं। प्रभासाक्षी संवाददाता ने कश्मीर घूमने आये पर्यटकों से बातचीत कर उनके मन की बात जानी तो सभी ने कहा कि यहां के बारे में पहले जो भय था वह यहां आकर दूर हो गया है क्योंकि यहां के लोग भी अच्छे हैं और यहां के पर्यटक स्थलों की तो बात ही कुछ और है। पर्यटकों ने प्रभासाक्षी के साथ बातचीत में कश्मीर को धरती का स्वर्ग बताया।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।