जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर यातायात बहाल, मुगल रोड भूस्खलन के कारण बंद

Jammu-Srinagar national highway
भूस्खलन के कारण चार दिन बंद रहने के बाद 270 किलोमीटर लंबे जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर शनिवार को दोनों तरफ से यातायात बहाल हो गया। हालांकि, कश्मीर से जम्मू को जोड़ने वाले वैकल्पिक मार्ग मुगल रोड पर ताजा भूस्खलन होने से यातायात बाधित रहा। अधिकारियों ने यह जानकारी दी।

जम्मू। भूस्खलन के कारण चार दिन बंद रहने के बाद 270 किलोमीटर लंबे जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर शनिवार को दोनों तरफ से यातायात बहाल हो गया। हालांकि, कश्मीर से जम्मू को जोड़ने वाले वैकल्पिक मार्ग मुगल रोड पर ताजा भूस्खलन होने से यातायात बाधित रहा। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। अधिकारियों ने बताया कि उधमपुर जिले के समरोली क्षेत्र में शुक्रवार को भूस्खलन का मलबा हटाए जाने के बाद, मंगलवार शाम से राष्ट्रीय राजमार्ग पर फंसे सैकड़ों वाहन निकल सके। यातायात विभाग के एक अधिकारी ने कहा, ‘‘आज सुबह दोनों तरफ से (जम्मू और श्रीनगर) यातायात बहाल हुआ जो सुगमता से जारी है।’’

इसे भी पढ़ें: MVA संकट: शिंदे के आरोपों को गृह मंत्री ने बताया निराधार, बोले- किसी की सुरक्षा वापस लेने का नहीं दिया गया आदेश

लगातार हो रही वर्षा के कारण भूस्खलन और मिट्टी खिसकने से मंगलवार शाम को रामबन और उधमपुर जिलों में लगभग तीन दर्जन स्थानों पर राजमार्ग बाधित रहा। इसके कारण दो हजार से ज्यादा वाहन फंसे थे जिनमें अधिकांश ट्रक थे। अधिकारी ने कहा कि रात में सभी वाहनों को निकाल दिया गया और यातायात बहाल हुआ।

इसे भी पढ़ें: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ब्रज क्षेत्र के विकास पर केंद्रीय मंत्रियों से चर्चा की

उन्होंने कहा कि भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण पन्थियाल पर एक स्टील की सुरंग की मरम्मत का काम कर रहा है जो पहाड़ों से पत्थर गिरने से क्षतिग्रस्त हो गया था। अधिकारी ने बताया कि जम्मू के पुंछ और राजौरी को शोपियां से जोड़ने वाली मुगल रोड शनिवार को भूस्खलन होने के कारण बंद है और मलबा हटाने का काम जारी है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़