पहले बोला कबूल है-कबूल है, दहेज में कार नहीं मिली तो मिनटों में दिया तीन तलाक, शौहर पर मामला दर्ज

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 10, 2022   15:27
पहले बोला कबूल है-कबूल है, दहेज में कार नहीं मिली तो मिनटों में दिया तीन तलाक,  शौहर पर मामला दर्ज
google free license

इंदौर में 29 वर्षीय महिला को लगातार तीन बार तलाक बोलकर उससे वैवाहिक रिश्ता तुरंत खत्म करने के आरोप में उसके शौहर और ससुराल पक्ष के दो रिश्तेदारों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है।

इंदौर (मध्यप्रदेश)। इंदौर में 29 वर्षीय महिला को लगातार तीन बार तलाक बोलकर उससे वैवाहिक रिश्ता तुरंत खत्म करने के आरोप में उसके शौहर और ससुराल पक्ष के दो रिश्तेदारों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है। सदर बाजार पुलिस थाने के एक अधिकारी ने बताया कि महिला का आरोप है कि दहेज में कार और पांच लाख रुपये की मांग पूरी नहीं किए जाने के चलते उसे तीन तलाक की प्रतिबंधित प्रथा का शिकार बनाया गया।

इसे भी पढ़ें: कुछ इस तरह बनाएं टेस्टी पालक के कबाब, जानिए इसकी विधि

उन्होंने बताया कि 29 वर्षीय महिला ने रविवार रात प्राथमिकी दर्ज कराते हुए आरोप लगाया कि उसके शौहर अनीस मंसूरी ने दोनों के बीच वैवाहिक रिश्ते को तुरंत खत्म करने की नीयत से उसे ‘‘तलाक, तलाक, तलाक बोला। पुलिस अधिकारी ने आरोपों के हवाले से बताया कि मंसूरी और उसके परिजन महिला को मानसिक एवं शारीरिक रूप से प्रताड़ित कर रहे थे क्योंकि उसके मायके वालों ने दहेज के रूप में कार और पांच लाख रुपये की ससुराल पक्ष की मांग पूरी नहीं की थी।

इसे भी पढ़ें: पाक के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ पर भ्रष्टाचार के आरोप, जांच करने वाले अधिकारी की दिल का दौरा पड़ने से मौत

उन्होंने बताया कि महिला की शिकायत पर उसके शौहर एवं ससुराल पक्ष के दो रिश्तेदारों- रऊफ और कौसर के खिलाफ मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) अधिनियम 2019, भारतीय दंड विधान की धारा 498-ए (किसी स्त्री के पति या पति के नातेदार द्वारा उसके प्रति क्रूरता) और अन्य प्रावधानों के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है। पुलिस अधिकारी ने बताया कि मामले की विस्तृत जांच जारी है और तीनों आरोपियों के खिलाफ कानूनी औपचारिकताएं पूरी की जा रही हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...