शराबबंदी को लेकर उमा भारती फिर बनी शिवराज सरकार के लिए मुसीबत, किया बड़ा ऐलान

शराबबंदी को लेकर उमा भारती फिर बनी शिवराज सरकार के लिए मुसीबत, किया बड़ा ऐलान

उमा भारती ने दावा किया कि शराबंदी के इस अभियान में उनके साथ शिवराज सरकार भी है। उमा ने कहा कि शिवराज जी भी चाहते है, शराब बंद हो। तब तक अभियान से जुडे लोग यह प्रयास करेंगे कि वह इसमें क्या कर सकते हैं।

भोपाल। मध्य प्रदेश की बीजेपी सरकार एक तरफ शराब की खपत बढ़ाने के लिए बैठक कर रही है। वहीं दूसरी तरफ पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती सरकार के लिए मुसीबत खड़ी करने में लगी हुई है। उमा भारती ने एक बार फिर से प्रदेश में शराब बंदी के अभियान को  तेज करने का ऐलान किया है।

इसे भी पढ़ें:MP में शराब की खपत बढ़ाने को लेकर अहम बैठक, कांग्रेस ने जताई आपत्ति

दरअसल पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने प्रदेश में शराबबंदी को लेकर एक बड़ा बयान दिया है। उमा भारती ने कहा कि अगले साल जनवरी महीने से प्रदेश में शराबबंदी को लेकर अभियान तेज किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि शराबबंदी अभियान से मैं पीछे नहीं हटी हूं। गंगा का काम मेरा जनवरी शुरू माह में पूरा हो जाएगा उसके तुरंत बाद शराबंदी में जुट जाऊंगी। उन्होंने कहा कि कोरोना के कारण डेढ साल से न ही गंगा का काम किया और न ही शराबंदी का। अब काम मे तेजी आएगी।

इसे भी पढ़ें:प्रधानमंत्री मोदी करेंगे गति शक्ति योजना का शुभारंभ, CM शिवराज भी कार्यक्रम में रहेंगे मौजूद 

वहीं उमा भारती ने दावा किया कि शराबंदी के इस अभियान में उनके साथ शिवराज सरकार भी है। उमा ने कहा कि शिवराज जी भी चाहते है, शराब बंद हो। तब तक अभियान से जुडे लोग यह प्रयास करेंगे कि वह इसमें क्या कर सकते हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।