असंवैधानिक है समान नागरिक संहिता, मुस्लिम इसे नहीं मानेंगे, मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने UCC को लेकर दी ये चेतावनी

असंवैधानिक है समान नागरिक संहिता, मुस्लिम इसे नहीं मानेंगे, मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने UCC को लेकर दी ये चेतावनी
Creative Common

हजरत मौलाना खालिद सैफुल्ला रहमानी ने कहा कि यूसीसी का विचार मुसलमानों को स्वीकार्य नहीं होगा। “समान नागरिक संहिता का मुद्दा वास्तविक मुद्दों से ध्यान हटाने और नफरत और भेदभाव के एजेंडे को बढ़ावा देने के लिए लाया गया है। यह संविधान विरोधी कदम मुसलमानों को कतई स्वीकार्य नहीं है।

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) ने दावा किया कि समान नागरिक संहिता (यूसीसी) का विचार असंवैधानिक और अल्पसंख्यकों के खिलाफ है। इसने आगे कहा कि यूसीसी मुसलमानों के लिए अस्वीकार्य है। एआईएमपीएलबी के महासचिव हजरत मौलाना खालिद सैफुल्ला रहमानी ने प्रेस नोट में कहा कि भारत के संविधान ने नागरिकों को मौलिक अधिकारों के तहत उनके धर्म के अनुसार जीने की इजाजत दी है। उन्होंने कहा, "इसी अधिकार के तहत अल्पसंख्यकों और आदिवासी वर्गों के लिए उनके रीति-रिवाजों, विश्वासों और परंपराओं के अनुसार अलग-अलग कार्मिक कानून दिए गए हैं।

इसे भी पढ़ें: नहीं बुझ रही उत्तराखंड के जंगलों की आग, बारिश नहीं हुई तो स्थिति होगी खराब, वीडियो आया सामने

उन्होंने कहा कि पर्सनल लॉ बोर्ड अल्पसंख्यक और बहुसंख्यक समुदायों के बीच आपसी विश्वास बनाए रखने में मदद करता है। उन्होंने केंद्र और राज्य सरकारों को वास्तविक मुद्दों" से ध्यान हटाने के लिए यूसीसी का उपयोग करने का आरोप लगाया है। "उत्तराखंड या उत्तर प्रदेश सरकार या केंद्र सरकार द्वारा समान नागरिक संहिता को अपनाना सिर्फ एक बयानबाजी है, और हर कोई जानता है कि उनका उद्देश्य बढ़ती महंगाई, गिरती अर्थव्यवस्था और बढ़ती बेरोजगारी जैसे मुद्दों से ध्यान हटाना है। 

इसे भी पढ़ें: उत्तराखंड में ‘हिंदू महापंचायत’को रोकने के लिए धारा 144 लागू, 33 लोग हिरासत में लिए गए

हजरत मौलाना खालिद सैफुल्ला रहमानी ने कहा कि यूसीसी का विचार मुसलमानों को स्वीकार्य नहीं होगा। “समान नागरिक संहिता का मुद्दा वास्तविक मुद्दों से ध्यान हटाने और नफरत और भेदभाव के एजेंडे को बढ़ावा देने के लिए लाया गया है। यह संविधान विरोधी कदम मुसलमानों को कतई स्वीकार्य नहीं है। रहमानी ने आगे यूसीसी पर बातचीत की निंदा की और सरकार से ऐसी किसी भी योजना से दूर रहने का आग्रह किया।

इसे भी पढ़ें: Uniform Civil Code: CM धामी बोले- समान नागरिक संहिता लागू करने वाला देश में उत्तराखंड पहला राज्य होगा

एआईएमपीएलबी का यह बयान उस समय आया है जब भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व वाली उत्तराखंड सरकार ने राज्य में यूसीसी पर मसौदा तैयार करने के लिए पहले ही एक समिति गठित कर दी है। उत्तराखंड के अलावा, उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार ने भी संकेत दिया है कि राज्य यूसीसी के कार्यान्वयन पर गंभीरता से विचार कर रहा है। उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा था कि राज्य यूसीसी पर विचार कर रहा है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भोपाल में पार्टी नेताओं की बैठक के दौरान अपने बयान में यूसीसी का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि सीएए, राम मंदिर, अनुच्छेद 370 और तीन तलाक को पहले ही सुलझा लिया गया है। अब सरकार कॉमन सिविल कोड पर फोकस करेगी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।