रूस-यूक्रेन पर ममता के बयान से मचा बवाल, शुभेंदु अधिकारी ने वीडियो शेयर कर बताया अकल्पनीय

रूस-यूक्रेन पर ममता के बयान से मचा बवाल, शुभेंदु अधिकारी ने वीडियो शेयर कर बताया अकल्पनीय
प्रतिरूप फोटो

भाजपा नेता शुभेंदु अधिकारी ने कहा कि अकल्पनीय! मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कल अपनी सीमा पार की और केंद्र पर रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध भड़काने का आरोप लगाया। क्या उन्हें इस बात की जानकारी नहीं है कि इन शब्दों का इस्तेमाल भारत के खिलाफ कूटनीतिक रूप से किए जा सकते हैं ?

कोलकाता। रूस और यूक्रेन के बीच 34 दिनों से युद्ध चल रहा है। इसी बीच पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने रूस-यूक्रेन युद्ध को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा था और अब भाजपा नेता और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष शुभेंदु अधिकारी ने ममता बनर्जी का एक वीडियो शेयर किया है। 

इसे भी पढ़ें: बीरभूम हिंसा: बीजेपी प्रतिनिधिमंडल ने सौंपी रिपोर्ट, बौखलाई ममता ने कहा- CBI जांच होगी प्रभावित 

ममता पर बरसे शुभेंदु

शुभेंदु अधिकारी ने ट्वीट में लिखा कि अकल्पनीय !!! माननीय मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कल अपनी सीमा पार की और केंद्र पर रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध भड़काने का आरोप लगाया। क्या उन्हें इस बात की जानकारी नहीं है कि इन शब्दों का इस्तेमाल भारत के खिलाफ कूटनीतिक रूप से किए जा सकते हैं ? हमारी विदेश नीति और अंतर्राष्ट्रीय संबंध प्रभावित हो सकते हैं।

उन्होंने आगे कहा कि माननीय विदेश मंत्री एस जयशंकर और भारतीय कूटनीति कृपया यह नोट करें और कृपया स्थिति को उबारने और क्षति को नियंत्रित करने का प्रयास करें। मुझे शर्म आती है कि हमारी मुख्यमंत्री की गलती से आपको अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारी शर्मिंदगी उठानी पड़ सकती है।

इसे भी पढ़ें: मतुआ धर्म महा मेला को PM मोदी ने किया संबोधित, बोले- अगर किसी का उत्पीड़न हो रहा हो, तो आवाज़ ज़रूर उठाएं 

ममता ने केंद्र पर साधा था निशाना

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मंगलवार को एक जनसभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा था। उन्होंने कहा था कि तुमको सोचना नहीं चाहिए था पहले, जब हमारे लड़के लोग वापस आएंगे तो कैसे खाएंगे, कहां जाएंगे, कैसे पढ़ाई करेंगे। बड़ा-बड़ा बात करते हैं। ममता बनर्जी का यह वक्तव्य काफी ज्यादा वायरल हो रहा है।

इसके साथ ही ममता बनर्जी ने कहा कि अगर रूस-यूक्रेन युद्ध की जानकारी 3-4 महीने पहले से थी तो वहां फंसे भारतीय छात्रों को निकालने की प्रक्रिया पहले क्यों नहीं शुरू की गई ? इसके इतनी ज्यादा देरी क्यों हुई ?





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।