Telangana Elections 2023: तेलंगाना विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस का अनोखा फरमान, उम्मीदवारों के चंदे से ‘खजाना’ भरेगी पार्टी

Congress
ANI

तेलंगाना विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस पार्टी की तरफ से एक अनोखा फरमान जारी किया गया है। इस अनोखे फरमान के पीछे पार्टी के अपने तीन अहम तर्क भी दिए गए हैं। विधानसभा चुनाव के लिए आवेदक को टिकट के लिए कांग्रेस को चंदा देना होगा।

दक्षिणी राज्य तेलंगाना में इस साल के अंत तक विधानसभा चुनाव होने हैं। ऐसे में सभी राजनीतिक दलों ने अपनी-अपनी तैयारियां तेज कर दी हैं और रणनीति पर काम कर रहे हैं। इस दौरान चुनाव से पहले कांग्रेस पार्टी ने एक अनोखा फरमान जारी किया है। कांग्रेस पार्टी के विधानसभा टिकट के लिए अब जो भी आवेदन करेगा उसको आवेदन फॉर्म के साथ चंदा भी देना होगा। बता दें कि अगर कोई सामान्य वर्ग का व्यक्ति तेलंगाना विधानसभा चुनाव में कांग्रेस टिकट के लिए आवेदन करता है। तो आवेदन फॉर्म के साथ उस व्यक्ति को 50 हजार रुपए का चंदा देना होगा। अन्यथा उसका आवेदन रद्द माना जाएगा।

उम्मीदवारों को देना होगा चंदा

बता दें कि दलित और आदिवासी वर्ग के लिए चंदे की सीमा को 25 हजार रुपए रखा गया है। इस बाबत में प्रदेश कांग्रेस ने अंदरखाने सर्कुलर भी जारी कर दिया है। तेलंगाना कांग्रेस मीडिया प्रभारी किरण रेड्डी ने मामले पर जानकारी देते हुए बताया कि पार्टी ने विधानसभा उम्मीदवारों से आवेदन लिए हैं। इस दौरान सामान्य वर्ग के उम्मीदवारों से 50 हजार और एससी एसटी से 25 हजार रुपए का चंदा मांगा गया है। वहीं राज्य की 119 विधानसभा सीटों के लिए करीब 1200 से अधिक आवेदन प्राप्त हुए हैं। 

इसे भी पढ़ें: Telangana Chunav 2023: जानिए तेलंगाना चुनाव के लिए केसीआर ने क्यों चुना दूसरी सीट के रूप में कामारेड्डी निर्वाचन क्षेत्र

किरण रेड्डी ने कहा कि राज्य में कांग्रेस की स्थिति मजबूत है। लेकिन बीआरएस का कहना है कि कांग्रेस पार्टी के पास ना तो कार्यकर्ता हैं और ना ही उम्मीदवार हैं। उन्होंने बताया कि हर विधानसभा क्षेत्र के लिए 10 से 20 उम्मीदवारों के आवेदन प्राप्त हुए हैं। 

कांग्रेस के 3 तर्क

अपने इस कदम के पीछे तेलंगाना कांग्रेस तीन अहम तर्क दे रही है। इस फैसले के पीछे का पहला तर्क जो चुनाव लड़ने के लिए गंभीरता दिखाएगा सिर्फ वही आवेदन करेगा। ऐसे में टाइमपास करने वाले लोग आवेदन करने से पहले पीछे हट जाएंगे। दूसरा तर्क यह है कि यदि कोई गरीम उम्मीदवार है, जो इतना चंदा एकत्र नहीं कर सकता है, तो भला वह चुनाव कैसे लड़ेगा और जीत कैसे सुनिश्चित कर पाएगा। तीसरा और अहम तर्क यह है कि पार्टी को बीजेपी के मुकाबले कम चंदा मिल रहा है। इसलिए अगर पार्टी ईमानदारी से टिकट लेने वालों से चंदा ले रही है, तो इसमें समस्या क्या है। ऐसे में पार्टी तेलंगाना में टिकट आवेदकों से चंदा लेकर अपना खजाना तो भर लेगी। लेकिन असल काम तो जनता का मत हासिल करना है। जिससे की कांग्रेस सत्ता में आ सके।

All the updates here:

अन्य न्यूज़