Prabhasakshi's Newsroom । तालिबान के ठिकानों पर अज्ञात विमानों ने की बमबारी । करनाल में धारा 144 लागू

Prabhasakshi's Newsroom । तालिबान के ठिकानों पर अज्ञात विमानों ने की बमबारी । करनाल में धारा 144 लागू

अफगानिस्तान के पंजशीर घाटी पर भले ही तालिबान के कब्जा करने की बात कही हो लेकिन बीती रात को वहां पर अहमद मसूद के लड़ाकों ने जोरदार हमला किया। इसी बीच कुछ अज्ञात विमानों ने भी बमबारी की।

क्या पंजशीर में खूनी संग्राम समाप्त हो गया ? क्या अहमद मसूद के लड़ाकों ने घाटी छोड़ दी है ? बहुत से सवाल और कुछ अफगानी मीडिया रिपोर्ट्स के हवाले से मिल रहे जवाब, जो यह बता रहे हैं कि अभी जंग जारी है। हम बात उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव की भी करेंगे। कांग्रेस ने दावा किया है कि भाजपा ताश के पत्तों की तरह ढेर हो जाएगी। वहीं अंत में बात किसान महापंचायत की होगी। हरियाणा के करनाल में धारा 144 लागू है और कई स्थानों पर इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई हैं। 

इसे भी पढ़ें: शिक्षक पर्व के उद्घाटन सम्मेलन में बोले PM मोदी, अपनी क्षमताओं को आगे बढ़ाने का आ गया समय 

अज्ञात विमानों ने की बमबारी

अफगानिस्तान के पंजशीर घाटी पर भले ही तालिबान के कब्जा करने की बात कही हो लेकिन बीती रात को वहां पर अहमद मसूद के लड़ाकों ने जोरदार हमला किया। इसी बीच कुछ अज्ञात विमानों ने भी बमबारी की। कई मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि अज्ञात विमानों ने तालिबान के ठिकानों को निशाना बनाकर हमला किया। इसके बाद सवाल खड़ा होने लगा कि किस देश के विमानों ने तालिबान पर बमबारी की। तरह-तरह की अटकलें लगाई जाने लगीं। विशेषज्ञों की मानें तो कि तालिबान के ठिकानों पर अज्ञात विमानों से जो हमला हुआ है उसे शायद अफगानी पायलटों ने अंजाम दिया है।

दरअसल, काबुल में तालिबान की एंट्री के साथ बहुत से अफगानी अपना मुल्क छोड़ने के लिए विवश हो गए थे। ऐसे में अफगानी पायलटों ने भी ताजिकिस्तान और उज्बेकिस्तान की तरफ अपना रुख कर लिया था। ऐसे में शायद इन्हीं लोगों ने तालिबान के ठिकानों पर हमला किया है। लेकिन अभी इसकी कोई भी पुष्टि नहीं हुई है।

तालिबान ने भले ही पंजशीर पर कब्जा करने का दावा किया हो लेकिन अहमद मसूद ने इस दावे का खंडन किया है। उनका कहना है कि वह आखिरी खून की बूंद तक लड़ेंगे।

ताजिकिस्तान का नाम इसलिए भी आ रहा है क्योंकि अफगानिस्तान के कार्यकारी राष्ट्रपति अमरूल्ला सालेह और अहमद मसूद के वहां होने की जानकारी मिली है और ताजिकिस्तान भी तालिबान के खिलाफ अपनी आवाज बुलंद रखता है। यही एकलौता मुल्क है, जिसने अफगान संकट के समय तमाम मुल्कों की सबसे ज्यादा मदद की है। 

इसे भी पढ़ें: 14 साल की मासूम के साथ 13 दरिंदों ने एक हफ्ते तक किया गैंगरेप, हैवानों पर पुलिस ने कसा शिकंजा 

भाजपा के हाथों से निकल जाएगा UP ?

आगामी उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर तमाम पार्टियों ने अपनी-अपनी रणनीति बनाना शुरू कर दिया है। भाजपा समेत तमाम दलों ने अयोध्या की तरफ अपना रुख किया है। जहां एक तरफ किसान तबका भाजपा से नाराज चल रहा है तो वहीं बाकी के तमाम दल भाजपा के वोटबैंक पर सेंधमारी करने की कोशिशों में जुट गए हैं।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता वीरप्पा मोइली ने दावा किया कि योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में भाजपा उत्तर प्रदेश चुनाव में ताश के पत्तों की तरह ढेर हो जाएगी। उन्होंने कहा कि प्रियंका गांधी वाड्रा बेहतरीन काम कर रही हैं। जब आप योगी और प्रियंका की तुलना करते हैं, तो निश्चित रूप से यूपी के लोग प्रियंका और कांग्रेस को पसंद करेंगे।

वहीं ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी ने भाजपा पर निशाना साधा है लेकिन उन्होंने उत्तर प्रदेश चुनावों की बात नहीं कही बल्कि लोकसभा चुनाव का जिक्र किया है। 

इसे भी पढ़ें: Ganesh Chaturthi 2021 : गणेश चतुर्थी पर बाप्पा की बाजारों में ईको फ्रेंडली मूर्तियां की धूम 

करनाल में धारा 144 लागू

हरियाणा के करनाल में धारा 144 लागू कर दी गई है। दरअसल, किसानों पर 28 अगस्त को हुए कथित पुलिस लाठीचार्ज के खिलाफ लघु सचिवालय का घेराव करने का कार्यक्रम है। जिसके मद्देनजर प्रशासन ने लोगों के इकट्ठा होने पर प्रतिबंध लगा दिया और मोबाइल इंटरनेट सेवा को निलंबित कर दिया गया।

अधिकारियों ने कहा कि जिले में केंद्रीय अर्धसैनिक बलों की 10 कंपनियों सहित सुरक्षाबलों की 40 कंपनियां तैनात की गई हैं। हरियाणा भारतीय किसान यूनियन के प्रमुख गुरनाम सिंह चढूनी ने कहा कि उन्होंने अपनी मांगों को पूरा करने के लिए प्रशासन को छह सितंबर तक की समयसीमा दी थी। जिला प्रशासन के अधिकारियों के साथ यहां सोमवार को बैठक हुई लेकिन उनकी मांगों के बारे में कोई संतोषजनक जवाब नहीं मिलने के बाद उन्होंने मंगलवार सुबह लघु सचिवालय का घेराव करने फैसला किया।

वहीं हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज का भी बयान सामने आया है। जिन्होंने किसानों से शांति के साथ किसान महापंचायत करने की सलाह दी है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।