हरियाणा में रह रहे UP के 2,224 कामगारों को वापस लाई योगी सरकार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 25, 2020   17:14
हरियाणा में रह रहे UP के 2,224 कामगारों को वापस लाई योगी सरकार

अपर मुख्य सचिव गृह और सूचना ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अन्य राज्यों में 14 दिन का पृथक-वास पूरा कर चुके उत्तर प्रदेश के श्रमिकों, कामगारों तथा मजदूरों को चरणबद्ध तरीके से वापस लाए जाने के सम्बन्ध में निर्देश दिये थे।

लखनऊ। देश के दूसरे प्रदेशों में रह रहे उत्तर प्रदेश के श्रमिकों को वापस लाने का काम शनिवार से शुरू हो गया और पहले चरण में 2,224 श्रमिकों,कामगारों तथा मजदूरों को 82 बसों की मदद से लाया गया है। रविवार तक 11 हजार लोगों को वापस लाया जायेगा। अपर मुख्य सचिव गृह और सूचना ने शनिवार को संवाददाता सम्मेलन में बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अन्य राज्यों में 14 दिन का पृथक-वास पूरा कर चुके उत्तर प्रदेश के श्रमिकों, कामगारों तथा मजदूरों को चरणबद्ध तरीके से वापस लाए जाने के सम्बन्ध में निर्देश दिये थे। 

इसे भी पढ़ें: लॉकडाउन का एक महीना गुजरा, लोगों के भीतर बढ़ी बेचैनी और चिंता 

उन्होंने बताया कि इसी को अमल में लाते हुये शनिवार को हरियाणा राज्य से 2224 मजदूरों को 82 बसों से वापस प्रदेश लाया गया,ये मजदूर पश्चिमी उत्तर प्रदेश के 16 जिलों के है। उन्होंने कहा कि रविवार तक दूसरे प्रदेशों में रह रहे 11 हजार मजदूर वापस आ जायेंगे और इन श्रमिकों को वापस लाने का कार्यक्रम आगे भी जारी रहेगा। इन मजदूरों को 14 दिन तक पृथक-वास में रखा जायेगा। इसके लिये बड़ी संख्या में शेल्टर होम तैयार किये जाने के निर्देश दिये गये है जहां भोजन एवं शौचालय की सुचारू व्यवस्था की जाएगी। दूसरे प्रदेशों से वापस लायें गये मजदूरों का पृथक-वास समय समाप्त होने के बाद उन्हें रोजगार उपलब्ध कराने के लिये भी तैयारी करने के निर्देश दिये है। ताकि इन्हे अपने गांव या उसके आसपास ही रोजगार मिल सके। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।