अमेरिकी दूतावास के प्रतिनिधिमंडल ने अयोध्या की प्रस्तावित मस्जिद को लेकर बातचीत की

ayodhya
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
अमेरिकी दूतावास के एक प्रतिनिधिमंडल ने अयोध्या जिले के धन्नीपुर में प्रस्तावित मस्जिद-अस्पताल परियोजना पर इंडो-इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन (आईआईसीएफ) के न्यासियों के साथ बातचीत की।अमेरिकी दूतावास के राजनीतिक अधिकारी कैरेन मैक्क्री और आर्थिक व राजनीतिक विशेषज्ञ कवलीन चटवाल ने शुक्रवार को लखनऊ के एक होटल में बातचीत की।

अयोध्या (उत्तर प्रदेश), 31जुलाई। अमेरिकी दूतावास के एक प्रतिनिधिमंडल ने अयोध्या जिले के धन्नीपुर में प्रस्तावित मस्जिद-अस्पताल परियोजना पर इंडो-इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन (आईआईसीएफ) के न्यासियों के साथ बातचीत की। आईआईसीएफ के सचिव अतहर हुसैन ने बताया कि प्रतिनिधिमंडल में शामिल अमेरिकी दूतावास के राजनीतिक अधिकारी कैरेन मैक्क्री और आर्थिक व राजनीतिक विशेषज्ञ कवलीन चटवाल ने शुक्रवार को लखनऊ के एक होटल में बातचीत की।

यह बैठक दो घंटे तक हुई। हुसैन ने पीटीआई-से कहा, ‘‘बाबरी मस्जिद और राम जन्मभूमि मुद्दे पर अमेरिकी प्रतिनिधिमंडल के साथ हमारी लंबी चर्चा हुई, जिसका दक्षिण एशिया की एक विशाल आबादी के राजनीति परिपेक्ष्य में काफी प्रभाव है। अयोध्या फैसले के बाद, उम्मीद है कि इस तरह के सभी लंबित मुद्दों को शांतिपूर्ण तरीके से सुलझाया जा सकता है।’’

आईआईसीएफ के अध्यक्ष जुफर फारूकी ने कहा, ‘‘न्यायपालिका में विश्वास रखने वाले मुसलमानों ने अयोध्या विवाद से उत्पन्न हिंदू-मुस्लिम विभाजन को कम करने की उम्मीद के साथ अयोध्या फैसले को स्वीकार किया और इस बात पर जोर दिया कि मुस्लिम अभी भी विवाद के मुद्दों पर न्याय के लिए बहुत उम्मीद के साथ उच्च न्यायपालिका की ओर देखते हैं।’’ आईआईसीएफ की स्थापना उत्तर प्रदेश सुन्नी वक्फ बोर्ड ने राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद संपत्ति विवाद में उच्च्तम न्यायालय के फैसले के बाद अयोध्या के धन्नीपुर गांव में एक मस्जिद के निर्माण के लिए की थी।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़