उत्तर प्रदेश सरकार को किसानों की कोई परवाह नहीं: अखिलेश यादव

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 29, 2020   18:42
उत्तर प्रदेश सरकार को किसानों की कोई परवाह नहीं: अखिलेश यादव

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने रविवार को आरोप लगाया कि उत्तर प्रदेश सरकार को प्रदेश के किसानों की कोई परवाह नहीं है।

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने रविवार को आरोप लगाया कि उत्तर प्रदेश सरकार को प्रदेश के किसानों की कोई परवाह नहीं है। उन्होंने एक बयान में कहा, ‘‘उत्तर प्रदेश सरकार अपराधियों के आगे नतमस्तक है और विकास कार्य अवरुद्ध हैं।एक तरफ किसान आंदोलित है और इसके बावजूद मुख्यमंत्री देशाटन पर है। मुख्‍यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर तंज कसते हुए यादव ने कहा कि अपनी संवैधानिक ज़िम्मेदारी का निर्वहन करने के बजाय उनका मन स्टार प्रचारक बनकर दूसरे राज्यों में जाने और उनके शहरों के नाम बदलवाने में ज्यादा लगता है।

इसे भी पढ़ें: बसपा अध्‍यक्ष मायावती की केंद्र से मांग, कृषि कानूनों पर पुनर्विचार करे सरकार

यादव ने कहा कि भाजपा सरकार को प्रदेश के अन्‍नदाता की परवाह नहीं है और किसानों के प्रति नफरत रखना, उन्हें ‘आतंकवादी’ और ‘गुंडा’ बताना भाजपा की ओछी मानसिकता का प्रदर्शन है। उन्‍होंने कहा, ‘‘सरकार को किसानों से कोई हमदर्दी नहीं है बल्कि उन्हें चिंता है तो बस कारपोरेट घरानों की कि कैसे उनकी झोलियां भरी जाएं और प्रदेश की सम्पत्ति उनकी मर्जी से बंधक बनाई जाए।’’

इसे भी पढ़ें: कानपुर के कुली बाजार हादसे पर बोले अखिलेश, प्रशासन ने राहत प्रदान नहीं की तो सपा उनके लिए लड़ाई लड़ेगी

उन्‍होंने कहा, किसानों को आतंकवादी कहकर अपमानित करना भाजपा का निकृष्टतम रूप है। ये अमीरों की पक्षधर भाजपा का खेती-खेत, छोटा व्यापार, दुकानदार, सड़क परिवहन सब कुछ, बड़े लोगों के पास गिरवी रखने का षडयंत्र है। अगर भाजपा के अनुसार किसान आतंकवादी है तो भाजपाई कसम खाएं कि उनका उगाया अन्न नहीं खाएंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।