लखीमपुर हिंसा: वीडियो ट्वीट कर वरुण गांधी ने सरकार पर साधा निशाना, कहा-प्रदर्शनकारियों को चुप नहीं कराया जा सकता

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अक्टूबर 7, 2021   11:12
लखीमपुर हिंसा: वीडियो ट्वीट कर वरुण गांधी ने सरकार पर साधा निशाना, कहा-प्रदर्शनकारियों को चुप नहीं कराया जा सकता

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से सांसद वरूण गांधी ने लखीमपुर खीरी घटना का एक कथित वीडियो ट्विटर पर डाला है।भाजपा सांसद गांधी ने कहा, वीडियो बिल्कुल स्पष्ट है। प्रदर्शनकारियों को हत्या के माध्यम से चुप नहीं कराया जा सकता है। निर्दोष किसानों का खून बहा है, इसकी जवाबदेही तय होनी चाहिए।

लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से सांसद वरुण गांधी ने लखीमपुर खीरी में हुई घटना का एक कथित वीडियो बृहस्पतिवार को ट्विटर पर पोस्ट किया और कहा कि हत्या के माध्यम से प्रदर्शनकारियों को चुप नहीं कराया जा सकता। पीलीभीत के भाजपा सांसद गांधी ने एक वीडियो ट्वीट किया और कहा, वीडियो बिल्कुल स्पष्ट है। प्रदर्शनकारियों को हत्या के माध्यम से चुप नहीं कराया जा सकता है। निर्दोष किसानों का खून बहा है, इसकी जवाबदेही तय होनी चाहिए। अहंकार और क्रूरता का संदेश हर किसान के दिमाग में प्रवेश करे उससे पहले न्याय दिया जाना चाहिए। उन्होंने 37 सेकेंड का जो वीडियो पोस्ट किया उसमें तेज रफ्तार से चल रही थार जीप लोगों को पीछे से कुचलते हुये दिखाई दे रही है। थार जीप के पीछे एक काली और दूसरी सफेद रंग की दो एसयूवी आती दिख रही है।

इसे भी पढ़ें: भाजपा नेता उमा भारती ने प्रियंका वाड्रा पर लगाया प्रदेश में दंगा कराने की साजिश का आरोप

वीडियो में लोगों के चिल्लाने और रोने की आवाज सुनाई दे रही है। सोशल मीडिया पर देखा जा रहा यह वीडियो तीन अक्टूबर का बताया जा रहा है, जिस दिन लखीमपुर खीरी में हिंसा हुई थी। गौरतलब है कि रविवार को लखीमपुर खीरी हिंसा में आठ लोगों की मौत हो गई थी। मारे गए आठ लोगों में से चार किसान थे, जिन्हें उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के स्वागत के लिए क्षेत्र में एक कार्यक्रम में जा रहे भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा चलाए जा रहे वाहनों से कथित तौर पर कुचल दिया गया था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।