भगत सिंह का उदाहरण देते हुए बोले विजेंदर सिंह, गूंगो-बहरों की सरकार हो तो धमाका होना चाहिए

भगत सिंह का उदाहरण देते हुए बोले विजेंदर सिंह, गूंगो-बहरों की सरकार हो तो धमाका होना चाहिए

विजेंदर सिंह ने कहा कि मैंने किसान आंदलोन में अपने राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार लौटाने को कहा था। भगत सिंह की एक लाईन थी कि गूंगों बहरों की सरकार हो तो धमाका होना चाहिए। मेरी सोच कांग्रेस साथ जुड़ी हैं। किसानों का दर्द मैंने बाटा। तीनो काला कानून वापस लेना पड़ा और हमारी जीत हुई।

यूपी में कांग्रेस पार्टी अपनी जमीन को तलाश रही हैं। इसी क्रम में पार्टी की ओर से ओलंपियन मुक्केबाज विजेंदर सिंह और प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत्र मैदागिन स्थित कांग्रेस कार्यालय पहुंचे। बातचीत में विजेंद्र सिंह ने बीजेपी पर सेना, किसानों और रेलवे अभ्यर्थियों को लेकर जुबानी पंच किया। साथ मे कांग्रेस की ओर से सेना को लेकर छोटी सी किताब भी जारी किया। जिसमें सेना की बंद भर्तियों का उल्लेख हैं। उन्होंने कहा सेना में 3 साल से भर्ती नही निकली हैं। एक लाख से ज्यादा भर्तियां नही की गयी। कैंटीन के सामानों पर जीएसटी लगा दिया गया। 

इसे भी पढ़ें: PML का मुखिया बनने के लिए पाक भी जा सकते हैं सिद्धू: बिक्रम सिंह मजीठिया का तंज

विजेंदर सिंह ने कहा कि मैंने किसान आंदलोन में अपने राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार लौटाने को कहा था। भगत सिंह की एक लाईन थी कि गूंगों बहरों की सरकार हो तो धमाका होना चाहिए। मेरी सोच कांग्रेस साथ जुड़ी हैं। किसानों का दर्द मैंने बाटा। तीनो काला कानून वापस लेना पड़ा और हमारी जीत हुई। मैंने दुनियां देखा हैं, कही हिंसा से समाधान नही होता हैं। सुप्रिया त्रिनेत्र ने कहा जो लोग पार्टी छोड़कर जा रहे, ये उनके विचार हैं। कांग्रेस ने वन रैंक वन पेंशन योजना को लाया था। लेकिन भाजपा की सरकार ने सेना के लोगो से ये अधिकार भी छीन लिया। मैं लड़की हूं लड़ सकती हूं, ये नारा आधी आबादी का हैं। जिनको उनका हक आज तक नही मिला। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।