विश्व-भारती के 100वर्ष पूरा होने पर बोलीं ममता बनर्जी, टैगोर की सोच और दर्शन को रखना चाहिए संरक्षित

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 24, 2020   13:48
विश्व-भारती के 100वर्ष पूरा होने पर बोलीं ममता बनर्जी, टैगोर की सोच और दर्शन को रखना चाहिए संरक्षित

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ट्वीट किया कि विश्व भारती विश्वविद्यालय की स्थापना को 100 साल पूरे हो गए। शिक्षा का यह मंदिर समाज को आदर्श मनुष्य देने के लिए रवींद्रनाथ टैगोर का सबसे बड़ा प्रयोग था।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने विश्व-भारती के शताब्दी समारोह के मौके पर लोगों से बृहस्पतिवार को अपील की कि वे नोबेल पुरस्कार से सम्मानित रवींद्रनाथ टैगोर की सोच और उनके दर्शन को संरक्षित रखें। टैगोर ने शांतिनिकेतन में स्थित विश्व-भारती की 1921 में स्थापना की थी। संसद के एक कानून के बाद संस्थान को 1951 में केंद्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा मिल गया था। 

इसे भी पढ़ें: ममता का भाजपा पर हमला, कहा- पश्चिम बंगाल को गुजरात नहीं बनने देंगे 

मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया, ‘‘विश्व भारती विश्वविद्यालय की स्थापना को 100 साल पूरे हो गए। शिक्षा का यह मंदिर समाज को आदर्श मनुष्य देने के लिए रवींद्रनाथ टैगोर का सबसे बड़ा प्रयोग था। हमें इस महान दूरदर्शी की सोच और दर्शन को संरक्षित रखना चाहिए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।