UNSC में बोले एस जयशंकर, आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में दोहरे रवैये का नहीं करना चाहिए समर्थन

UNSC में बोले एस जयशंकर, आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में दोहरे रवैये का नहीं करना चाहिए समर्थन

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि हमें इस लड़ाई में दोहरे रवैये का समर्थन नहीं करना चाहिए। आतंकवादी आतंकवादी होते हैं, कोई अच्छा या बुरा नहीं होता।

नयी दिल्ली। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने मंगलवार को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने पड़ोसी देश पाकिस्तान का नाम लिए बिना ही आतंकवाद के मुद्दे पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि हमने 1993 के मुंबई ब्लॉस्ट के लिए जिम्मेदार आपराधिक गिरोहों को राज्य का संरक्षण ही नहीं बल्कि पांच सितारा आतिथ्य सुविधाएं मिलते हुए भी देखा है। 

इसे भी पढ़ें: सौम्यता के साथ विदेश नीति के जटिल मुद्दों को सुलझाने वाले जयशंकर के जन्मदिन पर जानिए खास बातें 

उन्होंने कहा कि हमें निश्चितरूप से आतंक से लड़ने के लिए राजनीतिक इच्छाशक्ति की जरूरत है। इसमें किसी भी प्रकार का किंतु-परंतु नहीं होना चाहिए। न ही हमें आतंकवाद को उचित ठहराना चाहिए और न ही उसका गुणगान होना चाहिए।

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, विदेश मंत्री ने कहा कि हमें इस लड़ाई में दोहरे रवैये का समर्थन नहीं करना चाहिए। आतंकवादी आतंकवादी होते हैं, कोई अच्छा या बुरा नहीं होता। जो लोग इस तरह का अंतर बताते हैं, उनका अपना एजेंडा होता है। जो लोग उनका बचाव करते हैं वो लोग साथ में अपराधी हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।