'लाल किले पर झंडा फहराने में नीतीश कुमार का करेंगे समर्थन', तेज प्रताप बोले- हम भतीजे हैं, इतना दायित्व बनता है

Tej Pratap
ANI Image
अनुराग गुप्ता । Aug 27, 2022 11:00PM
बिहार सरकार में मंत्री तेज प्रताप यादव ने पत्रकारों के साथ बातचीत में कहा कि नीतीश कुमार मेरे चाचा हैं और मैं उनका भतीजा हूं। ऐसे में मेरा दायित्व बनता है कि चाचा को हम लालकिले पर झंडा फहराने के मुकाम तक पहुंचाएंगे। यह महागठबंधन की सरकार है। लाल किले पर झंडा फहराने में हम उनका समर्थन करेंगे।

पटना। बिहार में महागठबंधन की सरकार बनने के बाद आगामी लोकसभा चुनाव के लिए प्रधानमंत्री पद उम्मीदवार को लेकर चर्चा तेज हो गई है। कुछ वक्त पहले तक राजग का हिस्सा रहे नीतीश कुमार ने महागठबंधन के साथ हाथ मिलाने के बाद प्रधानमंत्री उम्मीदवारी के लिए खम ठोक रहे हैं। लेकिन क्या संपूर्ण विपक्ष उन्हें प्रधानमंत्री उम्मीदवार का दावेदार बनाया है ? यह सवाल अहम है। इसी बीच बिहार के पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री तेज प्रताप यादव का बयान सामने आया। जिसमें उन्होंने प्रधानमंत्री उम्मीदवार को लेकर बात की है।

इसे भी पढ़ें: 21 आचार्यों ने किया विष्णुपद मंदिर का 'शुद्धिकरण', मंत्री को बर्खास्त करने की हुई मांग 

बिहार सरकार में मंत्री तेज प्रताप यादव ने पत्रकारों के साथ बातचीत में कहा कि नीतीश कुमार मेरे चाचा हैं और मैं उनका भतीजा हूं। ऐसे में मेरा दायित्व बनता है कि चाचा को हम लालकिले पर झंडा फहराने के मुकाम तक पहुंचाएंगे। यह महागठबंधन की सरकार है। लाल किले पर झंडा फहराने में हम उनका समर्थन करेंगे।

इसी बीच उन्होंने कहा कि सबसे अच्छा राजगीर का जंगल सफारी है। हमारी सरकार में इसका उद्घाटन हुआ था, फिर मुझे यह विभाग मिला है। जो भी कमियां हैं हमने अधिकारियों को बता दिया है। मुख्यमंत्री जी से मिल कर जरूरतों को पूरा किया जाएगा। इससे पहले उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने भी प्रधानमंत्री पद के लिए नीतीश कुमार का समर्थन करने की बात कही थी और उन्हें मजबूत उम्मीदवार बताया था।

इसे भी पढ़ें: गुरुग्राम में तेजस्वी यादव के मॉल CBI का छापा! राबड़ी देवी बोलीं- हम डरने वाले नहीं, जनता सब देख रही 

नीतीश कुमार ने खुद नहीं ठोका दावा

महागठबंधन की सरकार बनने के साथ ही मिशन 2024 को लेकर चर्चा तेज हो गई। हालांकि नीतीश कुमार ने खुद प्रधानमंत्री उम्मीदवार के लिए अपना दावा नहीं ठोका लेकिन बार-बार उनके नाम को लेकर चर्चा हो रही है। ऐसे में क्या विपक्षी दल सहमत हो पाएंगे ? क्योंकि राहुल गांधी, ममता बनर्जी, शरद पवार, केसीआर जैसे नेता भी खुद को इस पद के लिए योग्य समझते हैं।

अन्य न्यूज़