क्या है BSF की शीत रणनीति ? कैसे रखी जाती है दुश्मन की हरकत पर नजर ?

क्या है BSF की शीत रणनीति ? कैसे रखी जाती है दुश्मन की हरकत पर नजर ?

कोहरे के मौसम और गणतंत्र दिवस समारोह को देखते हुए निगरानी उपकरणों के साथ अतिरिक्त सैनिकों को अंतरराष्ट्रीय सीमा पर तैनात किया गया है।” उन्होंने कहा कि सीमा पर अभियान और रात में दबदबा कायम रखने वाले अभ्यास में वृद्धि की गई है।

सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने गणतंत्र दिवस समारोह से पहले घुसपैठ की कोशिशों और आतंकी साजिशों को विफल करने के लिए अपनी “शीतकालीन रणनीति” के तहत जम्मू-कश्मीर में अंतरराष्ट्रीय सीमा (आईबी) पर कोहरा रोधी निगरानी उपकरणों के साथ अतिरिक्त सैनिकों को तैनात किया है। अधिकारियों ने बताया है कि जम्मू-कश्मीर में 200 किलोमीटर लंबी अंतरराष्ट्रीय सीमा (आईबी) की सुरक्षा कर रहे बीएसएफ के जवानों को घुसपैठ करने वाले आतंकवादियों के खिलाफ उच्च स्तर की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए ‘अलर्ट’ पर रखा गया है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, “हमने सीमा पर सैनिकों को तैनात किया है। कोहरे के मौसम और गणतंत्र दिवस समारोह को देखते हुए निगरानी उपकरणों के साथ अतिरिक्त सैनिकों को अंतरराष्ट्रीय सीमा पर तैनात किया गया है।” उन्होंने कहा कि सीमा पर अभियान और रात में दबदबा कायम रखने वाले अभ्यास में वृद्धि की गई है। सीमावर्ती इलाके में सर्दियों के दौरान घना कोहरा रहता है।

इसे भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर में कब होंगे चुनाव ? गृह मंत्री अमित शाह ने दी बड़ी जानकारी

अधिकारियों ने घुसपैठ के लिए कोहरे का इस्तेमाल करने वाले आतंकवादियों की ओर इशारा किया और कहा कि सर्दियों की रणनीति में कोहरे के मौसम में सुरक्षा चुनौतियों से निपटने के उपाय शामिल हैं। उन्होंने बताया कि सैनिकों ने ऊझ, बंसंतार और चिनाब नदी वाले इलाकों में सभी खाली स्थानों को भर दिया है। गणतंत्र दिवस समारोह के मद्देनजर अंतरराष्ट्रीय सीमा पर सुरक्षा कड़ी करने के लिए कदम उठाए गए हैं। उन्होंने कहा कि सीमा की ओर जाने वाली सड़कों पर पुलिस ने कई चौकियां भी बनाई हैं और जांच बढ़ा दी है।

सुरक्षा स्थिति की समीक्षा

इस बीच, सिविल और सुरक्षा ग्रिड के शीर्ष अधिकारियों ने कश्मीर में सुरक्षा स्थिति समीक्षा की और घाटी में शांति बनाए रखने के प्रयास जारी रखने का संकल्प लिया। एक रक्षा प्रवक्ता ने कहा, ‘‘जम्मू-कश्मीर में नागरिक प्रशासन, खुफिया एजेंसियों और सुरक्षा बलों के शीर्ष अधिकारियों के कोर ग्रुप ने आज बादामी बाग छावनी में कश्मीर में सुरक्षा स्थिति की समीक्षा की।’’ प्रवक्ता ने कहा कि बैठक की सह-अध्यक्षता चिनार कोर के जनरल ऑफिसर कमांडिंग, लेफ्टिनेंट जनरल डी पी पांडेय और जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने की।

इसे भी पढ़ें: कश्मीर में भारतीय सैनिकों का जोश देखकर खुद ठंड के छूट रहे हैं पसीने

प्रवक्ता ने कहा, ‘‘कोर ग्रुप ने 2021 की खुफिया जानकारी और सुरक्षा मापदंडों की समीक्षा की। वर्ष 2021 में आतंकवादी घुसपैठ में कमी, आतंकवादी घटनाओं में कमी, आतंकवादियों की भर्ती में कमी, एचयूएमआईएनटी के आधार पर अभियान में वृद्धि, एसएफ हताहतों की संख्या में कमी, आतंकवादियों की गिरफ्तारी और आतंकवादियों के सहयोगियों के खिलाफ मामला दर्ज करने की घटनाओं में वृद्धि हुई, ये सभी खुफिया एवं सुरक्षा एजेंसियों द्वारा संयुक्त अभियानों और गतिविधियों के प्रभावी संचालन की ओर इशारा करते हैं।’’ उन्होंने कहा कि पिछले कुछ हफ्तों में पाकिस्तानी आतंकवादियों के मारे जाने की घटनाएं बढ़ी हैं। उन्होंने कहा कि अग्रिम पंक्ति के जवानों और सभी एजेंसियों के कर्मियों के प्रयासों की सभी उपस्थित लोगों ने सराहना की। प्रवक्ता ने कहा, ‘‘कोर ग्रुप ने आतंकवादी संगठनों और उनके आकाओं की ताजा रणनीतियों पर चर्चा की, जिसमें हाइब्रिड आतंकवादियों के इस्तेमाल और आसान लक्ष्यों को निशाना बनाना शामिल है। 2021 में मारे गए 15 आतंकवादी नए चेहरे थे, जो सुरक्षा बलों के रडार पर नहीं थे।’’ उन्होंने कहा कि एसआईए की स्थापना और एनआईए द्वारा मामला दर्ज किये जाने में बढ़ोतरी से केंद्रित खुफिया और जांच प्रयासों का असर दिख रहा है।

प्रवक्ता के अनुसार, अधिकारियों ने कहा कि संघर्षविराम से सीमा पर सुरक्षा स्थिति में सुधार हुआ है, हालांकि, पाकिस्तान में आतंकवादी शिविरों और प्रशिक्षण गतिविधियों के खुफिया इनपुट नियंत्रण रेखा पर सतर्क रहने की आवश्यकता का संकेत देते हैं। उन्होंने कहा कि नियंत्रण रेखा पर देर से हुई हिमपात ने घुसपैठ के रास्ते लंबे समय तक खुले रखे हैं, लेकिन प्रभावी निगरानी ने घुसपैठ में कुल मिलाकर कमी सुनिश्चित की है।

जम्मू में विकास कार्य तेज गति से आगे बढ़ रहे

आइये अब बात करते हैं भाजपा की। केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर के भाजपा नेताओं का मानना है कि अनुच्छेद 370 हटने के बाद से बड़ी तेजी के साथ केंद्र सरकार की योजनाओं का लाभ यहां के लोगों को मिल रहा है। प्रभासाक्षी संवाददाता ने जम्मू में पार्टी के राज्य मीडिया प्रभारी और प्रवक्ता से खास बातचीत की। इस वार्ता के दौरान पार्टी नेताओं ने दावा किया पिछले तीन वर्षों में जम्मू में खासतौर पर जो विकास हुआ है उसको लेकर यहां के लोग बहुत खुश हैं।

दुष्प्रचार अभियान चलाने वाला गिरफ्तार

जम्मू कश्मीर के बाहर पढ़ने वाले कश्मीरी छात्रों के खिलाफ कथित रूप से ऑनलाइन दुष्प्रचार अभियान चलाने के आरोप में अनंतनाग जिले में शुक्रवार को एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया। पुलिस ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि व्यक्ति की पहचान इफ्तिखार अहमद डार के रूप में हुई है। कश्मीर जोन पुलिस ने ट्विटर पर कहा, ‘‘पुलिस ने अनंतनाग से इफ्तिखार अहमद डार को बाहर पढ़ने वाले कश्मीरी छात्रों के खिलाफ ऑनलाइन दुष्प्रचार अभियान चलाने के लिए गिरफ्तार किया गया। इस प्रकार के दुष्प्रचार अभियान से छात्रों और अभिभावकों में रोष व्याप्त है।’’ पुलिस ने बताया कि आरोपी के खिलाफ कानून की संबंधित धाराओं के तहत अनंतनाग में एक प्राथमिकी दर्ज की गयी है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।