सत्यपाल मलिक ने जो कहा वह सच है, नरेंद्र मोदी अहंकारी और तानाशाह हैं: नाना पटोले

Nana Patole
महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष नाना पटोले ने कहा कि वे सत्यपाल मलिक को सच बोलने के साहस के लिए बधाई देते हैं। उन्होंने कहा कि फिलहाल बीजेपी में किसी में भी नरेंद्र मोदी पर सवाल उठाने की हिम्मत नहीं है। मोदी के कैबिनेट सहयोगी और भाजपा के सभी नेता मोदी के सामने मौन होकर सिर झुकाते हैं।

मुंबई। मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का असली चेहरा देश के सामने बेनकाब कर दिया है और उन्होंने जो कहा वह सच है। किसानों को लेकर इस तरह का असंवेदनशील बयान एक अहंकारी और तानाशाही सरकार का मुखिया ही दे सकता है। मलिक के बयान का समर्थन करते हुए यह बात महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष नाना पटोले ने कही है। उन्होंने कहा कि मोदी जी, आप जो भी कहें, किसान आंदोलन के दौरान 700 किसानों की मौत सिर्फ आपके वजह से हुई है। आप किसानों के हत्यारे हैं और अपनी जिम्मेदारी से बच नहीं सकते हैं।

पटोले ने आगे कहा कि वे सत्यपाल मलिक को सच बोलने के साहस के लिए बधाई देते हैं। उन्होंने कहा कि फिलहाल बीजेपी में किसी में भी नरेंद्र मोदी पर सवाल उठाने की हिम्मत नहीं है। मोदी के कैबिनेट सहयोगी और भाजपा के सभी नेता मोदी के सामने मौन होकर सिर झुकाते हैं। हालांकि सत्यपाल मलिक ने साहस के साथ सच कहने की बड़ी हिम्मत दिखाई है। इससे पहले मलिक ने किसानों के आंदोलन और कृषि कानूनों पर भी कड़ा रुख अख्तियार किया था।

पटोले ने कहा कि शहीद किसानों के बारे में मोदी का बयान परेशान करने वाला है। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि ऐसा क्रूर, निर्दयी व्यक्ति हमारे देश का प्रधानमंत्री है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पास किसानों के लिए खेद महसूस करने का कोई कारण नहीं है। अगर ऐसा होता तो किसानों को भारी ठंड और बारिश में अपनी जान गंवानी नहीं पड़ती। किसानों को खालिस्तानी, आंदोलनकारी कह कर उनके रास्तों में कीलें नहीं ठोंकी जाती।

नाना पटोले ने कहा कि महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक के उदाहरण का अनुसरण करना चाहिए। उन्हें केंद्र सरकार और भाजपा के इशारे पर काम करना बंद कर देना चाहिए। उन्होंने कहा कि राज्यपाल कोश्यारी सच्चाई का पक्ष लें, संविधान के सिद्धांतों के अनुसार काम करें। पटोले ने कहा कि जब इतिहास आपके काम का मूल्यांकन करता है, तो आपको यह सोचना चाहिए कि आपको किस आदर्श के रूप में याद रखा जाएगा।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़