बच्चों को कब से लगेगी कोरोना वैक्सीन? AIIMS निदेशक ने दी अहम जानकारी

corona vaccine
अभिनय आकाश । Jun 23, 2021 9:21PM
एम्स निदेशक ने कहा कि तीसरी लहर को अगर रोकना है तो ये हमारे हाथ में है। अगर हम कोरोना के नियमों का पालन करेंगे तो वायरस नहीं फैलेगा। मैं सबसे अपील करूंगा कि सभी कोरोना नियमों का पालन करें और जहां भी कोरोना के मामले ज़्यादा हो वहां लॉकडाउन लगाएं तथा सभी वैक्सीन लगाएं।

बच्चों को कोविड वैक्सीन लगाए जाने के सवाल पर एम्स के निदेशक डॉ रणदीप गुलेरिया ने कहा है कि 2-12 साल के बच्चों पर भारत की वैक्सीन का ट्रायल चल रहा है जो कि सितंबर-अक्टूबर तक खत्म हो जाएगी। उसके बाद हमारे पास डेटा आ जाएगा। इसके बाद ही हमें इसका अप्रूवल मिल सकता है तब भारत की वैक्सीन भी बच्चों में लग सकती है। गुलेरिया ने कहा कि बच्चों में कोरोना की बीमारी बहुत हल्की होती है, हमें सबसे पहले बुजुर्गों और जिन्हें पहले से कई बीमारी है उन्हें वैक्सीन लगाना चाहिए। बच्चों के लिए फाईजर वैक्सीन को एफडीए अप्रूवल मिल चुका है और इस वैक्सीन को भारत में आने की अनुमति दी गई है। 

इसे भी पढ़ें: मुंबई में कोरोना वायरस संक्रमण के 863 नए मामले, 23 और मरीजों की मौत

एम्स निदेशक ने कहा कि तीसरी लहर को अगर रोकना है तो ये हमारे हाथ में है। अगर हम कोरोना के नियमों का पालन करेंगे तो वायरस नहीं फैलेगा। मैं सबसे अपील करूंगा कि सभी कोरोना नियमों का पालन करें और  जहां भी कोरोना के मामले ज़्यादा हो वहां लॉकडाउन लगाएं तथा सभी वैक्सीन लगाएं।

इसे भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश की खबरें: श्रम कल्याण परिषद की 78वी बैठक आयोजित, राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग में नामित अध्यक्ष व सदस्यों ने ग्रहण किया पदभार

गौरतलब है कि देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस की 54,24,374 वैक्सीन लगाई गईं, जिसके बाद कुल वैक्सीनेशन का आंकड़ा 29,46,39,511 हो गया है। वहीं भारत में कोरोना के 50,848 नए मामले आने के बाद कुल पॉजिटिव मामलों की संख्या 3,00,28,709 हो गई है। वहीं 1,358 लोगों की मौतों हुई है जिसके बाद इस महामारी से मृतकों की संख्या 3,90,660 हो गई है। 68,817 नए डिस्चार्ज के बाद कुल डिस्चार्ज की संख्या 2,89,94,855 हो गई है. देश में सक्रिय मामलों की कुल संख्या 6,43,194 है। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़