कन्हैया को लेकर अभिव्यक्ति का झंडा बुलंद करने वाली कांग्रेस रणवीर शौरी को लेकर क्यों हो गई असहिष्णु

कन्हैया को लेकर अभिव्यक्ति का झंडा बुलंद करने वाली कांग्रेस रणवीर शौरी को लेकर क्यों हो गई असहिष्णु

सोशल मीडिया पर खासा एक्टिव रहने वाले अदाकार रणवीर शौरी ने कांग्रेस पार्टी और जवाहर लाल नेहरू को लेकर कुछ चुटीले अंदाज में ट्विट किया था। जिसके जवाब में उन्हें कांग्रेस के सीनियर नेताओं के निर्देश पर धमकियां भी मिलनी शुरू हो गई। धमकी भरे मैसेज का स्कीनशॉर्ट शेयर फिल्म अभिनेता ने अपने ट्विटर पर शेयर भी किया है।

सवा 4 लाख वोटों से लोकसभा चुनाव हारने वाले कन्हैया कुमार कांग्रेस का हाथ मजबूत करने के इरादे से आज पार्टी में शामिल हुए। जिसके बाद कांग्रेस ने कहा कि कन्हैया अभिव्यक्ति की आजादी के प्रतीक हैं। लेकिन अगर मैं आपसे कहूं कि कांग्रेस की अभिव्यक्ति वाली बातें मिथ्या या दिखावा है तो आपको थोड़ा अटपटा लग सकता है। लेकिन एक ऐसी घटना है जिसका जिक्र आज फिल्म अभिनेता रणवीर शौरी द्वारा ट्विटर पर सार्वजनिक किया गया है। जिसमें कांग्रेस नेता द्वारा अभिव्यक्ति का किस अंदाज में विरोध किया जा रहा है, इसके बारे में भी थोड़ा जान लीजिए।

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस के हुए कन्हैया और जिग्नेश, वेणुगोपाल ने युवा नेता को बताया अभिव्यक्ति की आजादी का प्रतीक

दरअसल, सोशल मीडिया पर खासा एक्टिव रहने वाले अदाकार रणवीर शौरी ने कांग्रेस पार्टी और जवाहर लाल नेहरू को लेकर कुछ चुटीले अंदाज में ट्विट किया था। जिसके जवाब में उन्हें कांग्रेस के सीनियर नेताओं के निर्देश पर धमकियां भी मिलनी शुरू हो गई। धमकी भरे मैसेज का स्कीनशॉर्ट शेयर फिल्म अभिनेता ने अपने ट्विटर पर शेयर भी किया है। जिसमें सूरज ठाकुर नाम का शख्स रणवीर शौरी को नेहरू/गांधी परिवार को लेकर किए गए ट्विट पर धमकाते हुए कह रहा है कि उसे डिलीट करने के साथ ही माफी मांगने की बात कह रहा है। इसके साथ ही वो शौरी को ऐसा नहीं करने की सूरत में अंजाम भुगतने की भी धमकी दे रहा है। सबसे दिलचस्प बात ये है कि वो शख्स कांग्रेस के मुंबई अध्यक्ष और एमएलसी भाई जगताप के निर्देश पर ऐसा सबकुछ करने का दावा कर रहा है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।