गोपाल राय का सुरजेवाला से सवाल, जींद के परिणाम को हरियाणा में क्यों दोहराना चाहते हो?

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Apr 8 2019 9:13PM
गोपाल राय का सुरजेवाला से सवाल, जींद के परिणाम को हरियाणा में क्यों दोहराना चाहते हो?
Image Source: Google

आप के वरिष्ठ नेता गोपाल राय ने कहा कि कल सुरजेवाला ने एक बयान दिया कि दिल्ली का तो पता नहीं, लेकिन हरियाणा और पंजाब में कोई गठबंधन नहीं होगा।

नयी दिल्ली। आप के वरिष्ठ नेता गोपाल राय ने कांग्रेस के साथ हरियाणा में गठबंधन की संभावनाओं को खारिज करने के कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला के बयान पर चुटकी लेते हुये कहा है कि सुरजेवाला हाल ही में हुये जींद विधानसभा क्षेत्र के उपचुनाव परिणाम को हरियाणा में क्यों दोहराना चाहते हैं? आप की दिल्ली इकाई के संयोजक राय ने आप और कांग्रेस गठबंधन के बारे में सोमवार को संवाददाताओं से कहा कि कल सुरजेवाला ने एक बयान दिया कि दिल्ली का तो पता नहीं, लेकिन हरियाणा और पंजाब में कोई गठबंधन नहीं होगा। मैं उनसे पूछना चाहता हूं कि सुरजेवाला जी, अभी जो जींद का चुनाव हुआ था उसको हरियाणा में क्यों दोहराना चाहते हैं।

इसे भी पढ़ें: पूर्ण राज्य के मुद्दे पर कांग्रेस अपने रुख पर पुनर्विचार करे: गोपाल राय

उल्लेखनीय है कि हाल ही में हुये जींद विधानसभा क्षेत्र के उपचुनाव में कांग्रेस के प्रत्याशी सुरजेवाला को करारी हार का सामना करते हुये तीसरे स्थान पर संतोष करना पड़ा था। राय ने कहा कि लोकसभा चुनाव में दिल्ली, हरियाणा और पंजाब में कांग्रेस से गठबंधन की आप की पहल, मौजूदा परिस्थितियों का ही नतीजा है। उन्होंने कहा कि आप ने शुरु में ही यह स्पष्ट कर दिया था कि दिल्ली, पंजाब, चंडीगढ़, हरियाणा और गोवा में अगर महागठबंधन मिलकर चुनाव लड़ता है तो इन राज्यों की 33 सीटों पर भाजपा को हराया जा सकता है। राय ने कहा कि आप का मकसद मोदी को हराना है। इसमें आप 33 सीटों पर भाजपा को हराने में मददगार बन सकती है इसीलिये गठबंधन की पहल की गयी है। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली की सभी सात सीटों पर अपने बलबूते चुनाव लड़ेगी AAP: गोपाल राय



राय ने कहा कि पंजाब के लिये कांग्रेस की दलील है कि वहां के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह किसी की सुनते ही नहीं है। इसलिये वहां गठबंधन होगा या नहीं, ये हम तय नहीं कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि अब कांग्रेस की दलील है कि पंजाब में उनकी सरकार है इसलिये वहां कांग्रेस मजबूत है। अब हरियाणा के लिये उनका (कांग्रेस) कहना है कि वहां पार्टी हारेगी, लेकिन किसी से बात नहीं करेगी। यह दलील गले नहीं उतरती है। राय ने इसे कांग्रेस का अहंकारी रवैया बताते हुये कहा कि कांग्रेस आत्ममुग्धता की स्थिति में चली गयी है। उन्होंने कहा कि जींद के लोग आज यह महसूस कर रहे हैं कि अगर कांग्रेस आप से मिलकर उपचुनाव लड़ती, तो सुरजेवाला पर जमानत गंवाने का संकट खड़ा नहीं होता। इस स्थिति को अगर हरियाणा की दस लोकसभा सीटों पर लागू किया जाये तो भाजपा को हराया जा सकता है।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video