8 साल के बेटे के सामने पत्नी ने अपने पति को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा, यहां देखें वीडियो

CCTV
Twitter
निधि अविनाश । May 25, 2022 5:56PM
प्रिंसिपल अजीत सिंह यादव ने सात साल पहले हरियाणा के सोनीपत निवासी सुमन के साथ लव मैरिज की थी। शुरू में इनका जीवन शांतिपूर्ण रहा लेकिन कुछ समय बाद हिंसा शुरू हो गई। लगातार हिंसा के साथ, अजीत सिंह को कई चोटें आई। शख्स ने कोर्ट से चिकित्सा सहायता भी मांगी है।

घरेलू हिंसा का एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है जहां एक पत्नी अपने पती की जमकर पिटाई कर रही है। राजस्थान के अलवर जिले के एक स्कूल प्रिंसिपल ने अपनी पत्नी के शारीरिक और मानसिक उत्पीड़न से सुरक्षा की मांग करते हुए कोर्ट ता दरवाजा खटखटाया है। पीड़ित शख्स के मुताबिक, उसकी पत्नी उसे रोजाना पीटती है।

पुलिस शिकायत में परेशान प्रिंसिपल ने आरोप लगाया कि उसकी पत्नी उन पर डंडे और क्रिकेट के बल्ले से हमला करती हैं। परेशान शख्स ने सबूत जुटाने के लिए घर में सीसीटीवी कैमरे लगवाए। सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो में, महिला को प्रिंसिपल को क्रिकेट के बल्ले से पीटते हुए देखा जा सकता है और एक जगह उनका बेटा अपने पिता को पीटते हुए देख रहा है। पीड़ित ने सुरक्षा के लिए कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है और घटना की फुटेज पेश की है। कोर्ट ने उन्हें सुरक्षा मुहैया कराने का आदेश दे दिया है।

इसे भी पढ़ें: यासीन मलिक के समर्थन में उतरे शाहिद अफरीदी, भारत के खिलाफ उगला जहर, अमित मिश्रा ने दिया जोरदार जवाब

प्रिंसिपल अजीत सिंह यादव ने सात साल पहले हरियाणा के सोनीपत निवासी सुमन के साथ लव मैरिज की थी। शुरू में इनका जीवन शांतिपूर्ण रहा लेकिन कुछ समय बाद हिंसा शुरू हो गई। लगातार हिंसा के साथ, अजीत सिंह को कई चोटें आई। शख्स ने कोर्ट से चिकित्सा सहायता भी मांगी है।

सिंह का कहना है कि वह एक शिक्षक के पेशे की गरिमा को ध्यान में रखते हुए हिंसा को सहन कर रहे थे। "लेकिन अब मैंने अदालत में शरण ली है क्योंकि मेरी पत्नी ने सारी हदें पार कर दी हैं।"“मैंने कभी सुमन पर हाथ नहीं उठाया और न ही कभी कानून को अपने हाथ में लिया। मैं एक शिक्षक हूं. यदि शिक्षक किसी महिला पर हाथ उठाता है और कानून अपने हाथ में लेता है, तो यह भारतीय संस्कृति और उसकी स्थिति के खिलाफ है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़