छत्तीसगढ़ कांग्रेस में बढ़ते कलह के बीच बोले भूपेश बघेल, आलाकमान के कहने पर त्याग दूंगा पद

Bhupesh Baghel
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि मैंने पहले भी कहा था कि उनका (सोनिया गांधी और राहुल गांधी) जब तक आदेश है मैं इस (मुख्यमंत्री) पद पर हूं।

रायपुर। छत्तीसगढ़ कांग्रेस में जारी अंतर्कलह पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के चौखट पर आ पहुंचा है। उन्होंने बीते दिनों मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव के साथ बैठक कर विवाद को सुलझाने के प्रयास किया। इसी बीच भूपेश बघेल का बयान सामने आया है। 

इसे भी पढ़ें: राहुल की चौखट पर पहुंचा छत्तीसगढ़ कांग्रेस का घमासान, सुलह की कोशिशों के बीच 3 घंटे तक चली बैठक

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि मैंने पहले भी कहा था कि उनका (सोनिया गांधी और राहुल गांधी) जब तक आदेश है मैं इस (मुख्यमंत्री) पद पर हूं। जब वो कहेंगे इस पद का त्याग कर दूंगा। जो ढाई साल-ढाई साल का राग अलाप रहे हैं वो राजनीतिक अस्थिरता लाने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन वो कभी सफल नहीं होंगे।

भूपेश बघेल ने मारी थी बाजी

छत्तीसगढ़ में साल 2018 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने रिकॉर्ड मतों से जीत हासिल की। लेकिन उस वक्त तय नहीं था कि मुख्यमंत्री पद किसे दिया जाए। हालांकि चर्चा में तब के प्रदेश अध्यक्ष रहे भूपेश बघेल और रमन सिंह सरकार के समय में विपक्ष के नेता रहे टीएस देव सिंह का नाम चल रहा था। मगर बाजी भूपेश बघेल मार ले गए। 

इसे भी पढ़ें: अपने क्षेत्र में काफी सक्रिय हैं भाजपा के राजनांदगांव सांसद संतोष पांडे, लोगों की समस्याओं का कर रहे निदान 

रिपोर्ट्स के मुताबिक पार्टी आलाकमान ने छत्तीसगढ़ में ढाई-ढाई साल वाला फॉर्मूला लगाया था। लेकिन राजनीति में कुछ भी तय नहीं होता है तभी को भूपेश बघेल मुख्यमंत्री पद पर मौजूद हैं और आलाकमान की दुहाई दे रहे हैं। कहा जाता है कि विधानसभा चुनाव के समय टीएस सिंह देव पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के करीबी हुआ करते थे लेकिन उन्हें स्वास्थ्य मंत्री का दर्जा ही मिल सका और अब आलम ऐसा है कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से आलाकमान काफी ज्यादा खुश है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़