MP में लगातार हो रहे महिलाओं के साथ दुष्कर्म, पूर्व मुख्यमंत्री ने बीजेपी सरकार पर खड़े किए सवाल

MP में लगातार हो रहे महिलाओं के साथ दुष्कर्म, पूर्व मुख्यमंत्री ने बीजेपी सरकार पर खड़े किए सवाल

प्रदेश में लगातार हो रहे महिलाओं के साथ हो रहे दुष्कर्म लेकर पूर्व सीएम कमलनाथ ने सरकार पर सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा है कि ”यह हो क्या रहा है मध्य प्रदेश में…?

भोपाल। मध्य प्रदेश में लगातार हो रहे महिलाओं के साथ हो रहे दुष्कर्म लेकर पूर्व सीएम कमलनाथ ने सरकार पर सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा है कि ”यह हो क्या रहा है मध्य प्रदेश में…? एक तरफ नवरात्रि का पावन पर्व चल रहा है, वहीं दूसरी तरफ प्रदेश में बहन-बेटियों के साथ रोज़ घटित घटनाएं प्रदेश को देशभर में शर्मसार कर रही है।

इसे भी पढ़ें:MP उपचुनाव में कितने प्रत्याशियों ने भरा अपना नामांकन, जानिए पूरी जानकारी

रीवा में मासूम बच्ची के साथ दुष्कर्म की घटना के सामने आने के बाद अब धार जिले में मांडवी गांव में एक महिला की बर्बर तरीके से पिटाई कर नग्न करने का विभत्स वीडियो सामने आया है। भाजपा प्रदेश में चुनाव को देखते हुए कन्या पूजन के कार्यक्रम कर रही है और आज सबसे ज्यादा आवश्यकता बहन-बेटियों को सबसे पहले सुरक्षा देने की है।

कमलनाथ ने लिखा कि आज बहन-बेटियों के साथ प्रदेश में भाजपा सरकार में दुष्कर्म-उत्पीड़न की घटनाएं रोज घटित हो रही है। मासूम बच्चियाँ ना घर में सुरक्षित है ना बाहर।  एनसीआरबी के ताज़ा आंकड़ों में भी मध्यप्रदेश मासूम बच्चों से अपराधों में देश में शीर्ष पर आकर, बच्चों के मामले में देश के सबसे असुरक्षित राज्य के रूप में सामने आया है। आज आवश्यकता सबसे पहले उन्हें सुरक्षा देने की है।

इसे भी पढ़ें:NSUI प्रदेश अध्यक्ष के भोपाल आगमन पर हुआ हंगामा, पूर्व मंत्री के साथ हुई धक्का-मुक्की 

दरअसल रीवा जिले में बुधवार रात 3 साल की मासूम बच्ची से दरिंदगी हुई। बच्ची मां के साथ झोपड़ी में सो रही थी। दरिंदा उसे चुपचाप उठाकर ले गया और दुष्कर्म के बाद छोड़ गया। थोड़ी देर बाद जब बच्ची चीखी तो मां की आंख खुली। वहीं भोपाल के बैरसिया में 10 वर्षीय छात्रा से पड़ोस में रहने वाले 50 साल के शिक्षक ने दुष्कर्म किया। लड़की आरोपी के घर पानी लेने जाती थी। आरोपी पानी देने के बदले में उसके साथ गलत काम करता था।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।