उत्तराखंड में तीन नए मेडिकल कॉलेजों पर जल्द शुरू होगा काम: तीरथ सिंह रावत

Tirath Singh Rawat
कोविड- 19 से पीड़ित होने के कारण एकांतवासमें रह रहे मुख्यमंत्री रावत ने संवाददाताओं से ऑनलाइन बातचीत करते हुए कहा कि प्रदेश विकास की दिशा में आगे बढ़ रहा है और शिक्षा, स्वास्थ्य, पेयजल जैसी बुनियादी सुविधाओं के सुदृढ़ीकरण पर सरकार का ध्यान है।
देहरादून। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने शुक्रवार को कहा कि प्रदेश में स्वास्थ्य सहित सभी बुनियादी सुविधाओं के सुदृढीकरण पर जोर दिया जा रहा है और जल्द ही तीन नए मेडिकल कॉलेजों पर काम शुरू हो जाएगा। कोविड- 19 से पीड़ित होने के कारण एकांतवासमें रह रहे मुख्यमंत्री रावत ने संवाददाताओं से ऑनलाइन बातचीत करते हुए कहा कि प्रदेश विकास की दिशा में आगे बढ़ रहा है और शिक्षा, स्वास्थ्य, पेयजल जैसी बुनियादी सुविधाओं के सुदृढ़ीकरण पर सरकार का ध्यान है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में रूद्रपुर, हरिद्वार व पिथौरागढ़ में मेडिकल कॉलेज स्थापित करने पर जल्द काम शुरू हो जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना वायरस से संक्रमित होने के कारण वह आजकल एकांतवास में हैं लेकिन प्रदेश के कामकाज में कहीं अवरोध नहीं हैं। 

इसे भी पढ़ें: तय समय से पहले हो सकता है उत्तराखंड विधानसभा चुनाव ! अटकलों को ऐसे मिल रहा बल

सुदूर गांवों तक बेहतर स्वास्थ्य सुविधा पहुंचाने को सरकार की प्राथमिकता बताते हुए रावत ने कहा कि प्रदेश में 108 सेवा के लिए 138 नए वाहन दिए जा रहे हैं और जल्द ही 403 डॉक्टरों व 2600 नर्सों की भर्ती प्रक्रिया भी शुरू की जा रही है। उन्होंने कहा कि इसके अलावा मेडिकल कॉलेज में प्रोफेसर, असिसटेंट प्रोफेसर व एसोसिएट प्रोफेसरों की नियुक्ति भी शीघ्र हो जाएगी। रावत ने कहा कि कोविड-19 को देखते हुए स्वास्थ्य इंतजामों को मजबूत किया गया है तथा जिला स्तर तक अस्पतालों में वेंटिलेटर, बिस्तर तथा आइसीयू तक की व्यवस्था की जा रही है। उन्होंने कहा कि इसके अलावा प्रदेश से पलायन रोकने की दिशा में भी कई प्रयास किए जा रहे हैं और इसके लिए पर्यटन और तीर्थाटन पर ध्यान केंद्रित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि पलायन रोकने हेतु नई संभावनाएं तलाशने के लिए हर विभाग से फीडबैक लिया जा रहा है। एक सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि कुंभ मेले को भव्य, दिव्य और सुरक्षित बनाने के लिए उनकी सरकार प्रतिबद्ध है और संतों से लेकर श्रद्धालुओं तक की सुविधाओं का पूरा ध्यान रखा जा रहा है। हालांकि, उन्होंने कहा कि कोविड-19 को लेकर केंद्र सरकार द्वारा जारी दिशानिर्देशों का अक्षरशः पालन करना जरूरी है। 

इसे भी पढ़ें: मुख्यमंत्री रावत की 'फटी जींस' टिप्पणी पर बोलीं स्मृति ईरानी, लोग किस तरह से कपड़े पहनें, इससे नेताओं का...

पूर्ववर्ती त्रिवेंद्र सिंह सरकार द्वारा प्रदेश में घोषित किए गए नए गैरसैंण मंडल के बारे में पूछे जाने पर मुख्यमंत्री ने कहा कि इस मुद्दे पर हमारी सरकार जनभावनाओं के अनुरूप निर्णय लेगी। उन्होंने कहा कि जो जनमानस चाहेगा, वही होगा। हाल में लोकनिर्माण विभाग के अभियंताओं के निलंबन के बारे में रावत ने कहा कि विकास योजनाओं में किसी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जायेगी। उन्होंने कहा कि गलत के लिए हमारी सरकार में कोई स्थान नहीं है और गड़बड़ी पर किसी को बख्शा नहीं जायेगा। रावत ने कहा कि काम की गुणवत्ता और समयबद्धता के लिए जिलाधिकारियों को भी निर्देशित किया गया है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़