• पेगासस जासूसी मुद्दे पर संसद नहीं चलने देने को लेकर योगी आदित्यनाथ ने की विपक्ष की आलोचना

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने देश में ‘नकारात्मक’ वातावरण बनाने और पेगासस जासूसी विवाद को लेकर संसद की कार्यवाही नहीं चलने देने को लेकर मंगलवार को विपक्ष की कड़ी आलोचना की और उनसे माफी मांगने को कहा।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने देश में ‘नकारात्मक’ वातावरण बनाने और पेगासस जासूसी विवाद को लेकर संसद की कार्यवाही नहीं चलने देने को लेकर मंगलवार को विपक्ष की कड़ी आलोचना की और उनसे माफी मांगने को कहा। यहां एक संवाददाता सम्मेलन में भाजपा नेता ने कहा कि विपक्ष के ‘नकारात्मक रवैये’ ने संसद में आम लोगों से जुड़े मुद्दों पर चर्चा नहीं होने दी। आदित्यनाथ ने कहा, ‘‘पिछले दो दिनों से विपक्ष पेगासस मुद्दे पर देश के वातावरण को दूषित करने का प्रयास कर रहा है और यह सिर्फ उनकी बीमार मानसिकता को दर्शाता है।

इसे भी पढ़ें: दिल्ली जा रही उत्तर प्रदेश रोडवेज की बस दुर्घटनाग्रस्त, दो लोगों की मौत, कई घायल

कांग्रेस सरकारें अपने कार्यकाल में ऐसा करती रही हैं और अब पार्टी विपक्ष में आकर भी वही कर रही है।’’ मुख्यमंत्री ने विपक्ष पर कोविड-19 महामारी संकट के दौरान ‘नकारात्मक राजनीति’ करने का आरोप लगाया। पेगासस स्पाईवेयर मुद्दा संसद के मानसून सत्र में हंगामे की वजह बना हुआ है। जासूसी विवाद से जुड़े आरोपों को लेकर राजनीतिक छींटाकशी बढ़ गयी है और केन्द्र ने सोमवार को इन आरोपों से साफ-साफ इंकार करते हुए कहा कि भारतीय लोकतंत्र की छवि खराब करने की कोशिश की जा रही है, वहीं भाजपा-कांग्रेस के बीच जारी वाकयुद्ध के बीच मुख्य विपक्षी दल ने केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह से इस्तीफा देने की भी मांग की है।

इसे भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश : जंगल में महिला की धारदार हथियार से वार कर हत्या, बलात्कार का आरोप

एक अंतरराष्ट्रीय मीडिया कंसोर्टियम ने रविवार को खबर दी कि भारत में दो मंत्रियों, 40 से ज्यादा पत्रकारों, विपक्ष के तीन नेताओं, एक मौजूदा न्यायाधीश, कई उद्योगपतियों और कार्यकर्ताओं सहित 300 लोगों के सत्यापित मोबाइल फोन नंबरों को स्पाईवेयर की मदद से निशाना बनाया जा रहा है।