हम समाजवादी नहीं बल्कि बापू के रामराज्य के समर्थक हैं: योगी आदित्यनाथ

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 26, 2019   17:14
हम समाजवादी नहीं बल्कि बापू के रामराज्य के समर्थक हैं: योगी आदित्यनाथ

यह भारत की न्यायपालिका की ताकत के साथ साथ भारत के लोकतंत्र की ताकत का भी अहसास कराता है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार आने के बाद हमने तय किया था कि भ्रष्टाचार एवं अपराध के मुद्दे पर जीरो टालरेंस लागू करेंगे।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को कहा कि वह समाजवादी नहीं बल्कि बापू के रामराज्य के समर्थक हैं, जो सर्वकालिक, सार्वभौमिक और शाश्वत हो। योगी ने विधान परिषद में ‘संविधान दिवस’ के मौके पर आयोजित विशेष सत्र के दौरान सपा पर निशाना साधते हुए कहा, आम आदमी की कोई जाति नहीं होती। हमने केन्द्र या प्रदेश की कोई योजना भाजपा के नाम पर नहीं चलायी। हम भी कर सकते थे, लेकिन हमने नहीं किया। 

उन्होंने सवाल किया, संविधान में समाजवादी शब्द कब जुडा है। मैं सोशलिस्ट का नहीं बापू के रामराज्य का समर्थक हूं। कभी आप कांग्रेस की गोद में, कभी बसपा की गोद में जाते हैं। यह देश गांधी के रामराज्य की भावनाओं को लेकर आगे बढ़ता है। उन्हीं भावनाओं को लेकर हम चल रहे हैं। रामराज्य वो शासन है जो सर्वकालिक, सार्वभौमिक और शाश्वत हो। हमने इसी कार्यप्रणाली को स्वीकारा है। योगी ने कहा कि हमने संविधान ऐसा नहीं बनाया है कि कभी इसमें संशोधन नहीं हो सकता। न्याय, स्वतंत्रता, समता और बंधुता संविधान के मूल तत्व हैं।  सामाजिक आर्थिक एवं राजनीतिक न्याय जो इस देश के प्रत्येक नागरिक को प्राप्त हो। वैचारिक अभिव्यक्ति, विश्वास धर्म और उपासना की स्वतंत्रता सभी को हो। प्रत्येक नागरिक की प्रतिष्ठा ही समता है। बंधुता व्यक्ति की गरिमा और एकता एवं अखंडता सुनिश्चित करने के लिए हो। ये चार शब्द भारत के संविधान की मूल भावनाओं का प्रतिनिधित्व करते हैं। उन्होंने कहा कि प्रत्येक नागरिक को संविधान ये अधिकार देता है कि अलग अलग पृष्ठभूमि से आने के बावजूद प्रदेश के बारे में सोच पाते हैं और कार्य करते हैं।

इसे भी पढ़ें: आखिर क्यों नेताओं से ज्यादा नौकरशाहों पर भरोसा करते हैं योगी ?

योगी ने कहा कि संविधान एक तरफ हमें मानवीय गरिमा और सुरक्षा की गारंटी देता है, दूसरी ओर नागरिकों के अधिकारों के प्रति सचेत करता है। उन्होंने कहा कि एक धारा जबर्दस्ती जोड़ दी गयी थी ... संविधान का अनुच्छेद 35 ए और अनुच्छेद 370, उस समय बाबासाहेब भीमराव आंबेडकर ने अपनी असहमति दी थी और कहा था कि अनुच्छेद 370 कश्मीर के लिए विषबेल का कार्य करेगी। अलगगाववाद को बढावा देगी। उन्होंने कहा था लेकिन उस समय की सरकार ने इस पर अपेक्षित ध्यान नहीं दिया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने कश्मीर में अनुच्छेद 370 को समाप्त किया। योगी ने कहा कि यह वर्ष उत्तर प्रदेश के लिए कई मायनों में बहुत महत्वपूर्ण है। प्रयागराज कुंभ, 2019 ने स्वच्छता, सुरक्षा के लिए वैश्विक मंच पर स्थान पाया है। यूनेस्को ने इसे मान्यता दी। पहली बार 72 देशों के नागरिकों ने आकर अपनी ध्वजा फहरायी। संयुक्त राष्ट्र के 193 में से 187 देशों के लोग कुंभ के आयोजन में सहभागी बने। योगी ने कहा कि उत्तर प्रदेश पुलिस का व्यवहार भी इतना अच्छा हो सकता है, हमें देखने को मिला। ये अद्भुत है। उन्होंने कहा कि नौ नवंबर 2019 को उच्चतम न्यायालय ने राम जन्मभूमि से संबंधित फैसला सुनाया। इतना शांतिपूर्ण तरीके से लोगों ने उच्चतम न्यायालय के फैसले को स्वीकारा है। यह भारत की न्यायपालिका की ताकत के साथ साथ भारत के लोकतंत्र की ताकत का भी अहसास कराता है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार आने के बाद हमने तय किया था कि भ्रष्टाचार एवं अपराध के मुद्दे पर जीरो टालरेंस लागू करेंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...