वाईएसआर कांग्रेस ने रास में पाकिस्तान की जेलों में बंद भारतीय मछुआरों का मुद्दा उठाया

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Jul 15 2019 2:52PM
वाईएसआर कांग्रेस ने रास में पाकिस्तान की जेलों में बंद भारतीय मछुआरों का मुद्दा उठाया
Image Source: Google

’वाईएसआर कांग्रेस के सदस्य ने भारत सरकार से इस मामले में तत्काल हस्तक्षेप करने, उनके परिवारों को काउंसलर सुविधा उपलब्ध कराने और मछुआरों की शीघ्र रिहाई सुनिश्चित किए जाने की मांग की।विभिन्न दलों के सदस्यों ने उनके इस मुद्दे से स्वयं को संबद्ध किया।

नयी दिल्ली। राज्यसभा में सोमवार को वाईएसआर कांग्रेस के एक सदस्य ने पाकिस्तान की जेलों में बंद भारतीय मछुआरों का मुद्दा उठाया और सरकार से उनकी शीघ्र रिहाई तथा उनके परिवारों को काउंसलर सुविधा मुहैया कराए जाने की मांग की।वाईएसआर कांग्रेस के वी विजयसाई रेड्डी ने शून्यकाल में यह मुद्दा उठाते हुए कहा कि पिछले साल पाकिस्तानी नौवहन सुरक्षा एजेंसी ने गैरकानूनी तरीके से भारतीय जल क्षेत्र में प्रवेश कर 46 भारतीय मछुआरों को पकड़ लिया।उन्होंने कहा कि इन 46 भारतीय मछुआरों को पिछले साल अक्तूबर नवंबर में पकड़ा गया। इनमें से 22 मछुआरे आंध्रप्रदेश के थे जो मछली पकड़ने वाले ट्रॉलरों में काम करने के लिए गुजरात गए थे। इन सभी मछुआरों को कराची की जेल में न्यायिक हिरासत में रखा गया है।

इसे भी पढ़ें: बजट में पूर्वोत्तर के विकास पर ध्यान दिया गया: सियाम

रेड्डी ने कहा कि पाकिस्तान के अनुसार, कम से कम 483 भारतीय मछुआरे उसकी जेलों में बंद हैं। उन्होंने सवाल किया ‘‘जब पाकिस्तानी नौवहन सुरक्षा एजेंसी ने भारतीय जल क्षेत्र का अतिक्रमण किया तब भारतीय तटरक्षक क्या कर रहे थे।’’रेड्डी ने बताया कि उन्होंने तत्कालीन विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के समक्ष यह मुद्दा उठाया था जिन्होंने मछुआरों के परिवारों को काउंसलर पहुंच मुहैया कराने का आश्वासन दिया था। ‘‘लेकिन आठ माह बीत गए, अब तक न तो इन मछुआरों के परिवारों को काउंसलर पहुंच मुहैया कराई गई और न ही मछुआरे रिहा किए गए।’’वाईएसआर कांग्रेस के सदस्य ने भारत सरकार से इस मामले में तत्काल हस्तक्षेप करने, उनके परिवारों को काउंसलर सुविधा उपलब्ध कराने और मछुआरों की शीघ्र रिहाई सुनिश्चित किए जाने की मांग की।विभिन्न दलों के सदस्यों ने उनके इस मुद्दे से स्वयं को संबद्ध किया। 



रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video