तीसरे कार्यकाल के लिए AFI अध्यक्ष चुने गए सुमारिवाला, अंजू वरिष्ठ उपाध्यक्ष बनीं

Adille Sumariwalla
आदिले सुमारिवाला को तीसरे कार्यकाल के लिए एएफआई अध्यक्ष चुना गया है। सचिव के पद के लिए नामांकन भरने वाले संदीप मेहता मुकाबले से हट गए थे। उन्हें वरिष्ठ संयुक्त सचिव चुना गया। मुधकांत पाठक को निर्विरोध कोषाध्यक्ष चुना गया।

गुरुग्राम। निवर्तमान अध्यक्ष आदिले सुमारिवाला को शनिवार को यहां भारतीय एथलेटिक्स महासंघ (एएफआई) की वार्षिक आम बैठक में सर्वसम्मति से तीसरे कार्यकाल के लिए अध्यक्ष चुना गया जबकि लंबी कूद की पूर्व स्टार खिलाड़ी अंजू बॉबी जॉर्ज को वरिष्ठ उपाध्यक्ष बनाया गया। एएफआई में लंबे समय से विभिन्न पदों पर काबिज रहे रविंद्र चौधरी को सर्वसम्मति से सचिव चुना गया। इसके अलावा अन्य पदों के लिए भी कोई मुकाबला नहीं हुआ क्योंकि सभी के लिए सिर्फ एक उम्मीदवार मैदान में था। सचिव के पद के लिए नामांकन भरने वाले संदीप मेहता मुकाबले से हट गए थे। उन्हें वरिष्ठ संयुक्त सचिव चुना गया। मुधकांत पाठक को निर्विरोध कोषाध्यक्ष चुना गया। एजीएम में पांच संयुक्त सचिव और कार्यकारी समिति के आठ सदस्यों का चयन भी निर्विरोध हुआ। एएफआई की योजना समिति के प्रमुख ललित भनोट कार्यकारी समिति के सदस्यों में से एक हैं। पिछले कार्यकाल में भी वह कार्यकारी समिति के सदस्य थे। दो दिवसीय वार्षिक आम बैठक का आयोजन यहां एक होटल में किया गया जिसका मुख्य एजेंडा एक अध्यक्ष, एक वरिष्ठ उपाध्यक्ष, पांच उपाध्यक्ष, एक सचिव, एक वरिष्ठ संयुक्त सचिव, पांच संयुक्त सचिव, एक कोषाध्यक्ष और कार्यकारी समिति के आठ सदस्यों का चयन था।

इसे भी पढ़ें: खेलमंत्री किरेन रीजीजू ने ‘ फिट इंडिया वॉकाथन’ को दिखाई हरी झंडी, ‘ फिट इंडिया’ को मिलेगा बढ़ावा

विश्व चैंपियनशिप (2003 में कांस्य पदक) में पदक जीतने वाली एकमात्र भारतीय अंजू के लिए यह पद एएफआई की कार्यकारी समिति में उनका अब तक का शीर्ष पद है। पिछली कार्यकारी समिति में वह एथलेटिक्स आयोग की सदस्य के रूप में शामिल थी। अंजू का यह पद एएफआई के इतिहास में किसी महिला का सबसे शीर्ष पद है। सुमारिवाला का चार साल का यह कार्यकाल (2020-2024) एएफआई अध्यक्ष के रूप में उनका अंतिम कार्यकाल होगा क्योंकि राष्ट्रीय खेल संहिता 2011 के अनुसार कोई व्यक्ति लगातार तीन कार्यकाल तक ही राष्ट्रीय खेल महासंघ का प्रमुख रह सकता है। उन्हें 2012 में पहली बार इस पद पर चुना गया था। एएफआई के संविधान के अनुसार उपाध्यक्षों, संयुक्त सचिवों और कार्यकारी समिति के सदस्यों के बीच कम से कम एक महिला को जगह देना अनिवार्य है। यह चुनाव अप्रैल में होने थे लेकिन कोविड-19 महामारी के कारण इन्हें स्थगित करना पड़ा। मई में एएफआई ने आनलाइन विशेष आम सभा का आयोजन करके चुनावों को टाल दिया था और अपने पदाधिकारियों के कार्यकाल को बढ़ा दिया था। उस समय महासंघ ने कहा था कि चुनाव आनलाइन बैठक में नहीं बल्कि निजी तौर पर पेश होकर होंगे और इस बार बैठक का आयोजन इसी तरह हुआ।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़