सहारनपुर में कबड्डी खिलाड़ियों ने शौचालय में रखा खाना खाया, विवाद बढ़ा तो अधिकारी हुआ सस्पेंड

saharanpur kabaddi players
Prabhasakshi
डॉ. भीमराव अंबेडकर स्टेडियम में 16 से 19 सितंबर तक लड़कियों की सब-जूनियर कबड्डी प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था, जिसमें राज्य के 16 संभागों की 300 से अधिक लड़कियों ने भाग लिया था। खेल के बाद जब खाने की बारी आई तो यह खाना शौचालय में दिया गया।

सहारनपुर। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार एक ओर जहां खेलों और खिलाड़ियों को बढ़ावा देने के कई प्रयास कर रही है लेकिन सरकारी अधिकारी बेपरवाह नजर आ रहे हैं। हम आपको बता दें कि सहारनपुर से जो वीडियो सामने आया है उसने विपक्ष को योगी सरकार पर हमलावर होने का अवसर दे दिया है। दरअसल इस वीडियो में दिख रहा है कि कबड्डी खिलाड़ियों का खाना शौचालय में रखा गया है। वीडियो में दिख रहा है कि शौचालय में खुला रखा गया खाना खाने को खिलाड़ी मजबूर हैं। यह वीडियो सोशल मीडिया पर ‘वायरल’ हुआ तो राज्य सरकार ने इस पर संज्ञान लेते हुए ढिलाई बरतने के आरोप में जिला खेल अधिकारी को निलंबित कर दिया है। हम आपको बता दें कि सहारनपुर के डॉ. भीमराव अंबेडकर स्टेडियम में 16 से 19 सितंबर तक लड़कियों की सब-जूनियर कबड्डी प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था, जिसमें राज्य के 16 संभागों की 300 से अधिक लड़कियों ने भाग लिया था। खेल के बाद जब खाने की बारी आई तो यह खाना शौचालय में दिया गया।

मामले ने तूल पकड़ा तो अपर मुख्य सचिव (खेल) नवनीत सहगल का बयान आया कि सहारनपुर के जिला खेल अधिकारी अनिमेष सक्सेना को निलंबित कर दिया गया है। वहीं, सहारनपुर के जिलाधिकारी अखिलेश सिंह ने कहा है कि अपर जिला मजिस्ट्रेट (वित्त और राजस्व) रजनीश कुमार मिश्रा को घटना की जांच करने के लिए कहा गया है और वह तीन दिन में अपनी रिपोर्ट सौंपेंगे। अखिलेश सिंह ने कहा, ‘‘खिलाड़ियों को जो दोपहर का खाना परोसा गया वह अधपका था और खिलाड़ियों को पर्याप्त खाना नहीं मिल पाया। इसके अलावा चावल और पूड़़ी को शौचालय में रखा गया था और उससे बदबू आ रही थी।’’ उन्होंने कहा, ''यह भी पता चला कि खाना स्विमिंग पूल परिसर में पकाया गया था और 300 से अधिक लोगों के लिए भोजन तैयार करने के लिए केवल दो रसोइये लगे हुए थे।" जिलाधिकारी ने बताया कि भोजन तैयार करने के बाद उसे शौचालय में रखा गया था और यहीं से खिलाड़ियों ने खाना लिया। अखिलेश सिंह ने जांच दल को खिलाड़ियों से बात करने, वीडियो क्लिपिंग प्राप्त करने और रिपोर्ट जमा करने का निर्देश दिया है। उन्होंने कहा, 'जिला खेल अधिकारी ने इस राज्य स्तरीय टूर्नामेंट के बारे में प्रशासन को कोई जानकारी नहीं दी थी। अगर प्रशासन को आयोजन की सूचना दी जाती तो वह अपने स्तर पर प्रतियोगिता पर विशेष ध्यान देता।' 

इसे भी पढ़ें: टी-20 विश्व कप से पहले आईसीसी ने बदले नियम, अक्टूबर से होंगे लागू

इस बीच, यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने राज्य सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि यह अक्षम सरकार है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार खिलाड़ियों को खाना तक नहीं दे पा रही है। वहीं केंद्रीय खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा है कि मैंने संबंधित ठेकेदार और अधिकारी पर कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा कि उस ठेकेदार को काली सूची में डाला जायेगा।

अन्य न्यूज़