• मेस्सी के बहुत बड़े प्रशंसक हैं सुनील छेत्री, पूर्व कप्तान बाईचुंग भूटिया से लेते हैं सलाह, कोहली के साथ खाया है स्ट्रीट फूड

सुनील छेत्री ने एक इंटरव्यू के दौरान बताया था कि जब मैं दुखी होता हूं तो मैं लियोनल मेस्सी के वीडियो देखता हूं और इससे मुझे खुशी मिलती है।

नयी दिल्ली। भारतीय फुटबॉल टीम के कप्तान सुनील छेत्री के भीतर अभी भी अच्छे प्रदर्शन की ललक बरकरार है। कुछ वक्त पहले उनके संन्यास की अटकलें लगाई जा रही थीं। जिस पर उन्होंने साफ कर दिया था कि अभी वह संन्यास लेने के बारे में कोई भी विचार नहीं कर रहे हैं। हालांकि कई मौके ऐसे होते है जब खिलाड़ी निराश हो जाते हैं लेकिन सुनील छेत्री ने फुटबॉल की तरफ इस पर भी कामयाबी हासिल की हुई है। 

इसे भी पढ़ें: सुनील छेत्री बेंगलुरू एफसी टीम के साथ 2023 तक रहेंगे जुड़े, कप्तान ने ट्वीट कर जताई खुशी 

दरअसल, सुनील छेत्री ने एक इंटरव्यू के दौरान बताया था कि जब मैं दुखी होता हूं तो मैं लियोनल मेस्सी के वीडियो देखता हूं और इससे मुझे खुशी मिलती है। इसलिए जब मैं उनसे मिलूंगा, तो मैं उनसे कहूंगा कि मैं उनका प्रशंसक हूं और उनसे अच्छे से हाथ मिलाउंगा।

बता दें कि सुनील छेत्री 36 साल के पूरे हो चुके हैं और आज वह अपना 37वां जन्मदिन मना रहे हैं। सुनील छेत्री ने जिस वक्त भारतीय फुटबॉल टीम में कदम रखा था तब बाईचुंग भूटिया, रेनेडी सिंह और महेश गवली जैसे दिग्गज खिलाड़ी मौजूद थे। एक बार एक कार्यक्रम के दौरान पूर्व कप्तान बाईचुंग भूटिया ने प्रभासाक्षी को बताया था कि सुनील छेत्री बेहतरीन कप्तान हैं और फुटबॉल टीम एक काबिल हाथों में है। हालांकि सुनील छेत्री अपने पूर्व कप्तान से काफी प्रभावित रहे हैं और उनसे सलाह लेते रहते हैं।

छेत्री ने दागे हैं मेस्सी से ज्यादा गोल

सुनील छेत्री ने 16 साल पहले पाकिस्तान के खिलाफ क्वेटा में अंतरराष्ट्रीय पदार्पण किया था। उस समय टीम के मुख्य कोच सुखविंदर सिंह थे। छेत्री ने तब से 118 मैचों में देश के लिए 74 गोल किये है, सक्रिय खिलाड़ियों में सिर्फ क्रिस्टियानो रोनाल्डो के नाम उनसे ज्यादा गोल है। बार्सिलोना के महान खिलाड़ी लियोनल मेस्सी से सुनील छेत्री के अंतरराष्ट्रीय ज्यादा हैं। मेस्सी ने अंतरराष्ट्रीय मैचों में 72 गोल किए है। 

इसे भी पढ़ें: AFC कप के सर्वश्रेष्ठ तीन स्ट्राइकरों के लिए कप्तान सुनील छेत्री सहित 13 खिलाड़ियों का नामांकन 

साल 2001 में दिल्ली से फुटबॉल की शुरुआत करने वाले सुनील छेत्री को एक साल बाद ही मोहान बागान ने अपने साथ शामिल कर लिया था। तब से लेकर अब तक सुनील छेत्री ने कभी पीछे मुड़ कर नहीं देखा। सुनील छेत्री ने विदेशी जमीं के लिए भी फुटबॉल खेला है। उन्होंने साल 2010 में मेजर लीग सॉकर के कैनसस सिटी विजार्ड्स के लिए समझौते पर दस्तखत किया था और विदेश जाने के लिए उपमहाद्वीप के तीसरे खिलाड़ी बने थे। हालांकि जल्दी ही वापस आ गए थे।वैसे सुनील छेत्री के प्रशंसक एक और भारतीय कप्तान हैं। उन्होंने कई मौकों पर उनका समर्थन करने के लिए भारतीय खेलप्रेमियों से अपील भी की थी। दरअसल, हम बात कर रहे हैं विराट कोहली की।

सुनील छेत्री के जन्मदिन पर उनकी तरफ से भी शुभाकामनाएं आईं। उन्होंने कहा कि हैप्पी बर्थडे स्किप। मुझे आशा है कि आपके जीवन में हर दूसरे दिन की तरह आपका दिन मंगलमय हो और मैं हमेशा आपको शुभकामनाएं देता हूं। मैं हमारी दोस्ती के लिए भी आभारी हूं जो बहुत व्यवस्थित और विश्वास के विपरीत बनाई गई है, हम प्रमुख रूप से दिल्ली के स्ट्रीट फूड यादों से जुड़े हुए हैं।