मनदीप के दो गोल से भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने रूस को हराया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 2, 2019   14:48
  • Like
मनदीप के दो गोल से भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने रूस को हराया

दुनिया की पांचवें नंबर की टीम भारत कल होने वाले दूसरे चरण के मुकाबले को हल्के में नहीं ले सकती क्योंकि रूस ने दिखा दिया है कि उनकी टीम उलटफेर करने में सक्षम है।

भुवनेश्वर। भारतीय पुरुष हॉकी टीम शुक्रवार को यहां दो मैचों के हॉकी ओलंपिक क्वालीफायर के पहले मैच में रूस की कमजोर मानी जाने वाली टीम के खिलाफ उम्मीद के मुताबिक प्रदर्शन नहीं कर सकी लेकिन इसके बावजूद मेजबान टीम ने मनदीप सिंह के दो गोल की बदौलत 4-2 से जीत दर्ज की। मनदीप ने 24वें और 53वें मिनट में दो मैदानी गोल दागे जबकि हरमनप्रीत सिंह (पांचवें मिनट) और एसवी सुनील (48वें मिनट) ने भी भारत की ओर से एक-एक गोल किया। दोनों टीमों के स्तर और विश्व रैंकिंग में बड़े अंतर के कारण एकतरफा मुकाबले की उम्मीद की जा रही थी लेकिन दुनिया की 22वें नंबर की रूस की टीम ने अपने जुझारू खेल से मेजबान टीम को हैरान किया और हार के अंतर को सिर्फ दो गोल तक सीमित रखा।

इसे भी पढ़ें: जूनियर महिला हॉकी शिविर के लिए 33 संभावित खिलाड़ी घोषित

दुनिया की पांचवें नंबर की टीम भारत कल होने वाले दूसरे चरण के मुकाबले को हल्के में नहीं ले सकती क्योंकि रूस ने दिखा दिया है कि उनकी टीम उलटफेर करने में सक्षम है। दोनों मैचों के कुल स्कोर के आधार पर जीत दर्ज करने वाली टीम तोक्यो ओलंपिक खेल 2020 के लिए क्वालीफाई करेगी। मैच की शुरुआत काफी तेज हुई। तीसरे ही मिनट में रूस के पावेल गोलुबेव के प्रयास को भारतीय गोलकीपर पीआर श्रीजेश ने नाकाम किया। दो मिनट बाद रूस के गोलकीपर मरात गफारोव ने भारतीय कप्तान मनप्रीत सिंह के शॉट को रोका लेकिन इसके बाद उनके खिलाफ फाउल हुआ। मेजबान टीम ने वीडियो रैफरल का सहारा लिया जिससे टीम को पेनल्टी स्ट्रोक मिला जिसे हरमनप्रीत ने गोल में बदला।

इसे भी पढ़ें: रिजिजू को भरोसा, अपना खोया हुआ गौरव फिर से हासिल करेगी भारतीय हॉकी

रूस को इसके बाद पेनल्टी कार्नर मिला लेकिन टीम गोल नहीं दाग सकी। दूसरे क्वार्टर के दूसरे मिनट में रूस ने आंद्रे कुरेव के मैदानी गोल से बराबरी हासिल करके सबको हैरान कर दिया। कुछ मिनटों बाद सर्गेई लेपेशकिन रूस को बढ़त दिलाने के करीब पहुंचे लेकिन मामूली अंतर से गोल करने से चूक गए। मनदीप ने 24वें मिनट में मैदानी गोल दागकर भारत को फिर 2-1 से आगे कर दिया।

इसे भी पढ़ें: हॉकी इंडिया ने राष्ट्रीय शिविर के लिये 22 खिलाड़ियों का चयन किया

भारत को मध्यांतर से ठीक पहले अपना पहला पेनल्टी कार्नर मिला लेकिन हरमनप्रीत के प्रयास को गफारोव ने आसानी से विफल कर दिया। रूस ने तीसरे क्वार्टर की शुरुआत में दो अच्छे मूव बनाए लेकिन टीम बराबरी हासिल नहीं कर पाई। तीसरे क्वार्टर के बाद मेजबान टीम 2-1 से आगे थी। सुनील ने 48वें मिनट में भारत को 3-1 से आगे किया जबकि 53वें मिनट में मनदीप ने एक और गोल दागकर मेजबान टीम की बढ़त को 4-1 कर दिया। सेमेन मातकोवस्की ने अंतिम लम्हों में पेनल्टी कार्नर पर गोल दागकर रूस के हार के अंतर को कम किया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




सिंधू और श्रीकांत ने थाईलैंड ओपन के पहले दौर में दर्ज की जीत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 19, 2021   11:06
  • Like
सिंधू और श्रीकांत ने थाईलैंड ओपन के पहले दौर में दर्ज की जीत

सिंधू और श्रीकांत की थाईलैंड ओपन में प्रभावशाली शुरुआत की है।सिंधू दूसरे गेम में अधिक प्रतिबद्ध दिखी। उन्होंने 7-2 से बढ़त बनायी और फिर ब्रेक तक 11-5 से आगे थी। सिंधू ने लगातार पांच अंक बनाकर 19-8 से बढ़त हासिल की। आखिर में उनके पास सात मैच प्वाइंट थे और उन्होंने करारा स्मैश जमाकर जीत दर्ज की।

बैंकॉक। भारत के चोटी के खिलाड़ियों पी वी सिंधू और किदाम्बी श्रीकांत ने टोयोटा थाईलैंड ओपन सुपर 1000 बैडमिंटन टूर्नामेंट में मंगलवार को यहां पहले दौर में सीधे गेम में जीत दर्ज की। एक सप्ताह पहले एशियाई चरण की पहली प्रतियोगिता में डेनमार्क की मिया ब्लिचफील्ड से पहले दौर में हारने के बाद विश्व चैंपियन सिंधू ने दूसरे टूर्नामेंट के शुरू में विश्व में 12वें नंबर की थाई खिलाड़ी बुसानन ओंगबमरंगफान को महिला एकल मैच में 21-17, 21-13 से हराया। सिंधू ने मैच के बाद कहा, ‘‘यह अच्छा मैच था और मैं बहुत खुश हूं। यह जीत मेरे लिये बहुत महत्वपूर्ण थी क्योंकि पिछले सप्ताह के टूर्नामेंट में मैं पहले दौर में हार गयी थी।’’ इस जीत से सिंधू का बुसानन के खिलाफ रिकार्ड 11-1 हो गया है। भारतीय खिलाड़ी केवल एक बार 2019 में हांगकांग ओपन में थाई खिलाड़ी से हारी थी।

इसे भी पढ़ें: कैपिटल हिल हिंसा: पांच बार के ओलंपिक पदक विजेता पर मामला दर्ज, बढ़ी मुश्किलें

सिंधू अगले दौर में कोरिया की सुंग जी ह्यून और सोनिया चिया के बीच होने वाले मैच की विजेता से भिड़ेगी। पुरुष एकल में विश्व के पूर्व नंबर एक खिलाड़ी श्रीकांत ने थाईलैंड के सिटीकोम थम्मासिन को 37 मिनट में 21-11, 21-11 से पराजित किया। श्रीकांत पिछले टूर्नामेंट में पिंडली की मांसपेशियों में खिंचाव के कारण दूसरे दौर से हट गये थे लेकिन अब लगता है कि वह फिट हो गये हैं। सिंधू ने बुसानन के खिलाफ 8-6 की बढ़त बनायी लेकिन थाई खिलाड़ी ने अच्छी वापसी की और एक समय वह 13-9 से आगे थी। भारतीय खिलाड़ी ने हालांकि धैर्य बनाये रखा और जल्द ही 18-16 से आगे हो गयी और फिर पहला गेम अपने नाम किया। सिंधू दूसरे गेम में अधिक प्रतिबद्ध दिखी। उन्होंने 7-2 से बढ़त बनायी और फिर ब्रेक तक 11-5 से आगे थी। सिंधू ने लगातार पांच अंक बनाकर 19-8 से बढ़त हासिल की। आखिर में उनके पास सात मैच प्वाइंट थे और उन्होंने करारा स्मैश जमाकर जीत दर्ज की।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




कैपिटल हिल हिंसा: पांच बार के ओलंपिक पदक विजेता पर मामला दर्ज, बढ़ी मुश्किलें

  •  निधि अविनाश
  •  जनवरी 18, 2021   17:52
  • Like
कैपिटल हिल हिंसा: पांच बार के ओलंपिक पदक विजेता पर मामला दर्ज, बढ़ी मुश्किलें

ओलंपिक तैराकी पर यूएस कैपिटल हिंसा में भाग लेने का आरोप लगा है। इस वीडियो में केलर जानबूझकर एक प्रतिबंधित इमारत में प्रवेश करने के लिए एक आधिकारिक सरकारी समारोह को बाधित कर रहे है ।

अमेरिका के संसद भवन में हिंसा फैलाने का एक वीडियो सामने आया है जिसमें पांच बार के ओलंपिक तैराकी पदक विजेता केल केलर भी शामिल है। खबर के मुताबिक अमेरिकी जिला न्यायालय में एक शिकायत दर्ज की गई, जिसमें वीडियो से स्क्रीनशॉट का हवाला देते हुए ओलंपिक तैराकी पर यूएस कैपिटल हिंसा में भाग लेने का आरोप लगा है। इस वीडियो में केलर जानबूझकर एक प्रतिबंधित इमारत में प्रवेश करने के लिए एक आधिकारिक सरकारी समारोह को बाधित कर रहे है ।अभी यह स्पष्ट नहीं हुआ है कि उन्हें  हिरासत में लिया गया था या नहीं। बता दें कि  राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के हजारों समर्थकों ने 6 जनवरी को कांग्रेस के संयुक्त सत्र के दौरान कैपिटल हिल में हंगामा किया क्योंकि सांसदों ने राष्ट्रपति-चुनाव के लिए जो बाइडेन की जीत को औपचारिक माना था। 

कौन है केल केलर 

38 साल के केलर ने साल 2000, 2004 और 2008 के ओलंपिक में भाग लिया। उन्होंने 800 मीटर फ्रीस्टाइल रिले में दो गोल्ड और एक सिल्वर पदक हासिल किया था। साथ ही साथ 400 फ्री में कांस्य पदक हासिल किया था। कैपिटल के विरोध प्रदर्शन को लेकर यूएसए तैराकी ने एक बयान में कहा, कि "हम निजी व्यक्तियों और समूहों के अधिकारों का शांतिपूर्वक विरोध करने के लिए सम्मान करते हैं, लेकिन पिछले हफ्ते कैपिटल में उन लोगों द्वारा की गई कार्रवाई की निंदा नहीं करते हैं,"। बता दें कि इस खिलाड़ी की वीडियो टाउनहॉल रिपोर्टर जूलियो रोसस द्वारा सोशल मीडिया पर पोस्ट किया गया है जिसमें दंगाइयों के बीच एक अमेरिकी ओलंपिक टीम की जैकेट पहने एक लंबा आदमी दिखाई दे रहा है। इसको लेकर एफबीआई ने इस स्क्रीनशॉट का हवाला देते हुए बताया कि जैकेट पहने हुआ शख्स केलर के रूप में पहचाना गया है। यह भी कहा गया है कि पूर्व तैराक की लबांई 6-फुट -6 के रूप में दिखाई दे रहा है। इस दौरान केलर के सोशल मीडिया अकाउंट्स को बंद कर दिया गया है। बता दें कि केलर कथित तौर पर ट्रम्प के मुखर समर्थक रहे है।







डुंगडुंग की हैट्रिक से भारतीय जूनियर महिला हॉकी टीम ने चिली को 5-3 से हराया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 18, 2021   14:31
  • Like
डुंगडुंग की हैट्रिक से भारतीय जूनियर महिला हॉकी टीम ने चिली को 5-3 से हराया

डुंगडुंग की हैट्रिक से भारतीय जूनियर महिला हॉकी टीम ने चिली को हराया।भारतीय युवा टीम ने हालांकि चिली को वापसी का मौका नहीं दिया और डुंगडुंग ने 52वें मिनट में गोलों की हैट्रिक पूरी करके भारत की जीत पर मुहर लगा दी।

सैन्टियागो (चिली)। स्ट्राइकर ब्यूटी डुंगडुंग की हैट्रिक की मदद से भारतीय जूनियर महिला हॉकी टीम ने कोरोना महामारी के बाद एक साल में पहला अंतरराष्ट्रीय मैच खेलते हुए चिली को 5 . 3 से हरा दिया। झारखंड की इस स्ट्राइकर ने 29वें, 38वें और 52वें मिनट में गोल दागे। वहीं लालरिंडिकी ने 14वें और संगीता कुमारी ने 30वें मिनटमें गोल किये। चिली के लिये सिमोन अवेली (दसवां) , पाउला सैंज (25वां) और फर्नांडा एरिएटा (49वां मिनट) ने गोल किये। चिली की टीम ने शुरू में गेंद पर नियंत्रण में बाजी मारी और दसवें ही मिनट में पहला गोल कर दिया।

इसे भी पढ़ें: पहले टेस्ट में इंग्लैंड ने श्रीलंका को दी 7 विकेट से मात, दो मैचों की सीरीज में हासिल की बढ़त

भारत ने हालांकि चार मिनट बाद बराबरी का गोल दागा। मेजबान ने 25वें मिनट में पेनल्टी कॉर्नर को तब्दील करके फिर बढत बनाई। भारत ने जवाबी हमले तेज कर दिये और दसका फायदा भी उसे मिला जब 29वें और 30वें मिनट में दो गोल हुए। इसके बाद से भारतीयों ने मैच पर से पकड़ नहीं छोड़ी। डुंगडुंग ने 38वें मिनट में अपना दूसरा और भारत का चौथा गोल किया। इस बीच चिली ने फिर पेनल्टी को तब्दील करके बराबरी की कोशिश की। भारतीय युवा टीम ने हालांकि चिली को वापसी का मौका नहीं दिया और डुंगडुंग ने 52वें मिनट में गोलों की हैट्रिक पूरी करके भारत की जीत पर मुहर लगा दी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept