Prabhasakshi
सोमवार, अक्तूबर 22 2018 | समय 20:00 Hrs(IST)

खेल

भारतीय कोच होने से अब संवाद की बाधा खत्म हो गयी: सरदार सिंह

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Aug 10 2018 5:44PM

भारतीय कोच होने से अब संवाद की बाधा खत्म हो गयी: सरदार सिंह
Image Source: Google

 नयी दिल्ली। भारतीय हाकी टीम के वरिष्ठ खिलाड़ियों सरदार सिंह और मनप्रीत सिंह ने कहा कि राष्ट्रीय टीम का मुख्य कोच भारतीय होने से अब संवाद को लेकर कोई बाधा पैदा नहीं होती है तथा रणनीतिक तौर पर हरेंद्र सिंह किसी विदेशी कोच से कम नहीं हैं। हरेंद्र को मई में हाकी टीम का मुख्य कोच नियुक्त किया गया था। उनके रहते हुए भारतीय टीम पिछले महीने चैंपियन्स ट्राफी में लगातार दूसरे साल उप विजेता रही थी।

सरदार ने कहा, ‘‘मुझे अब भी याद है कि हरेंद्र पाजी ने 15-16 साल पहले मुझे राष्ट्रीय शिविर में बुलाया था। हम लंबे समय से एक दूसरे को जानते हैं। जब वह 2009 में जोस ब्रासा के साथ सहायक कोच थे तब भी मैं उनके मातहत खेला था।’’ उन्होंने कहा, ‘‘एक भारतीय कोच के साथ काम करना अलग तरह का अहसास है। हम उनके साथ कुछ भी चर्चा कर सकते हैं। वह हमें खुलकर सलाह देते हैं और जानते हैं कि सीनियर खिलाड़ी होने के कारण हम अपना खेल पूरी तरह से नहीं बदल सकते हैं।’’
 
अभ्यास के दौरान बात समझाने के लिये कोच के पास समय होता है लेकिन विदेशी कोच की दो क्वार्टर के बीच दो मिनट के ब्रेक के दौरान सलाह को समझना मुश्किल होता है। यहां पर हरेंद्र ने बड़ा अंतर पैदा किया। सरदार ने कहा, ‘‘अगर आप देखोगे तो उन्होंने महिला टीम और जूनियर टीम के साथ भी अच्छे परिणाम दिये हैं। जूनियर टीम ने विश्व कप उनके रहते हुए ही जीता। उन्होंने सर्वश्रेष्ठ प्रशिक्षकों के साथ काम किया है। उनके आने से सबसे बड़ा सकारात्मक पहलू यह रहा कि अब हिन्दी में बातचीत करते हैं।’’
 
उन्होंने कहा, ‘‘विदेशी कोच के साथ अगर आप दो मिनट के ब्रेक के दौरान कोई एक प्वाइंट भूल जाओ तो यह खिलाड़ियों के दिमाग में भ्रम पैदा कर सकता है। कोच बाहर से खेल का आकलन कर रहे होते हैं कि और वह अपनी भाषा में आपको सही तरह से समझा सकता है। आपके पास समय कम होता है और इसलिए ऐसी भाषा जिसे सभी समझते हैं से काफी मदद मिली।’’ सरदार के साथी मनप्रीत ने भी उनका समर्थन किया। 
 
मनप्रीत ने कहा, ‘‘जब भी नया कोच आता है तो उसे यह सुनिश्चित करना होता है कि हम खेल की अपनी शैली नहीं बदलें। हमारी ताकत आक्रमण और जवाबी हमला करना है। हरेंद्र पाजी जानते हैं कि कैसे एसवी सुनील और आकाशदीप जैसे तेजतर्रार फारवर्ड का कैसे उपयोग किया जाए।’’ उन्होंने कहा, ‘‘वह बेहद सकारात्मक व्यक्ति हैं। वह कम समय में सही चीजें कहते हैं। उन्होंने बेहतरीन प्रशिक्षकों के साथ काम किया है लेकिन अब भी कहते हैं कि वह सीख रहे हैं।’’
 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप


शेयर करें: