सौरभ चौधरी ने विश्व रिकार्ड के साथ स्वर्ण जीता, ओलंपिक कोटा हासिल किया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 24, 2019   17:27
सौरभ चौधरी ने विश्व रिकार्ड के साथ स्वर्ण जीता, ओलंपिक कोटा हासिल किया

सौरभ ने आठ पुरुषों के फाइनल में दबदबा बनाया और रजत पदकधारी से 5.7 अंक आगे रहे। इस तरह उन्होंने अंतिम शाट से पहले ही स्वर्ण पदक सुनिश्चित कर लिया था।

नयी दिल्ली। भारत के 16 वर्षीय निशानेबाज सौरभ चौधरी ने कई दिग्गज निशानेबाजों की मौजूदगी में रविवार को यहां आईएसएसएफ विश्व कप में नये विश्व रिकार्ड के साथ स्वर्ण पदक हासिल किया और देश के लिये तोक्यो ओलंपिक का तीसरा कोटा सुनिश्चित किया। पहली बार विश्व कप में भाग ले रहे चौधरी ने पुरूषों की 10 मी एयर पिस्टल स्पर्धा में बिना किसी परेशानी के शीर्ष स्थान प्राप्त किया। एशियाई खेलों और युवा ओलंपिक के स्वर्ण पदक विजेता ने कुल 245 अंक बनाये। सर्बिया के दामी मिकेच 239.3 अंक के स्कोर से दूसरे स्थान पर रहे जबकि कांस्य पदक चीन के वेई पांग ने हासिल किया। उन्होंने 215.2 अंक का स्कोर बनाया। 

सौरभ ने आठ पुरुषों के फाइनल में दबदबा बनाया और रजत पदकधारी से 5.7 अंक आगे रहे। इस तरह उन्होंने अंतिम शाट से पहले ही स्वर्ण पदक सुनिश्चित कर लिया था। अच्छी शुरूआत के बावजूद सौरभ पहली सीरीज के बाद सर्बियाई निशानेबाज के साथ बराबरी पर थे। दूसरी सीरीज में भी इस चैम्पियन निशानेबाज ने अच्छी फार्म जारी रखी और पहला स्थान हासिल किया। इस स्पर्धा में भाग लेने वाले अन्य भारतीय अभिषेक वर्मा और रविंदर सिंह फाइनल के लिये क्वालीफाई नहीं कर सके। इन दोनों ने क्वालीफिकेशन राउंड में 576 का समान स्कोर बनाया।

इसे भी पढ़ें: पाक को अलग कर देना चाहिए, जैसा दक्षिण अफ्रीका को किया गया था: विनोद राय

चौधरी ने दस से अधिक अंक के 19 स्कोर बनाये। इस भारतीय के नाम दस मीटर एयर पिस्टल में जूनियर वर्ग का रिकार्ड भी है और इसमें उन्होंने सीनियर विश्व रिकार्ड से अधिक अंक बनाये थे। चौधरी ने पिछले साल जर्मनी में जूनियर विश्व कप में भी स्वर्ण पदक जीता था। इसके अलावा वह जूनियर विश्व चैंपियन और युवा ओलंपिक चैंपियन भी हैं। क्वालीफिकेशन में चौधरी 587 के स्कोर के साथ तीसरे स्थान पर रहे। दक्षिण कोरिया के ली डेमयुंग ने 588 अंक और वेई पांग ने 587 अंक बनाये थे। पुरुषों की 50 मीटर राइफल थ्री पोजीशन में भारतीय निशानेबाज फाइनल के लिये क्वालीफाई करने में नाकाम रहे। इस स्पर्धा में हंगरी के इस्तवान पेनी ने स्वर्ण पदक जीता। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।